बजट के अभाव में वर्षों से लम्बित पड़ी योजनाओं को पूरा करने को कुशीनगर, कपिलवस्तु को मिला 48 cr

गोरखपुर: पिछली सरकार में प्रस्तावित औऱ धन के अभाव में वर्षों से लम्बित पड़ी पर्यटन विभाग की योजनाओं को अब पंख लगने वाले हैं। प्रदेश सरकार ने कुशीनगर एवं कपिलवस्तु में विभिन्न योजनाओं के लिए 48 करोड़ रुपए की धनराशि जारी कर दी है । जिससे अब इन योजनाओं पर काम जल्द ही शुरु हो जाएगा।

गौरतलब है कि पर्यटन की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में पूर्वांचल सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र है। क्योंकि यह क्षेत्र बुद्ध सर्किट के रूप में दुनियाभर में जाना जाता है। बौद्ध धर्म को मानने वाले कई देशों से बड़ी संख्या में पर्यटक कुशी नगर और कपिल वस्तु पहुंचते हैं। इन दोनों जगहों को पर्यटन को विकसित करने के लिए देश ही नहीं विदेशों से भी धन आता है।

प्रदेश में पूर्व की समाजवादी पार्टी की सरकार के समय इन पर्यटन स्थलों को विकसीत करने के लिए कई योजनाएं बनाई गईं थी, लेकिन बजट के अभाव में योजनाओं का क्रियान्वयन नही हो सका। इस योजना में कुशीनगर में पर्यटन को बढ़ावा देने की दृष्टि से सरकार ने 13 करोड़ 76 लाख रुपए लागत से साउंड एण्ड लाइट सिस्टम, पार्किंग, कूड़ा निस्तारण, पेयजल, सीसीटीवी वाईफाई और सोलर लाइट की व्यवस्था एवं कपिलवस्तु में 35 करोड़ 45 लाख रूपए लागत से बुद्ध पर आधारित पार्क, पर्यटक सहायता केन्द्र, साउंड एण्ड लाइट सिस्टम, पार्किंग, कूड़ा निस्तारण, पेयजल, सीसीटीवी वाईफाई एवं सोलर लाइट की सुविधा पर्यटकों की दी जाने वाली है।

प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की नेतृत्व वाली भाजपा की सरकार बनने के बाद से प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए तमाम लम्बित पड़ी योजनाओं के साथ ही नई योजनाओं पर काम शुरु किया गया है। इसके अंर्तगत कुशीनगर एवं कपिलवस्तु में लम्बित पड़ी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए सरकार ने 13 करोड़ रुपए कुशीनगर एवं 35 करोड़ रुपए का बजट कपिलवस्तु को दिया है। बजट मिलने के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि अब जल्द ही योजनाओं पर कार्य शुरु हो जाएगा।

इस सम्बंध में गोरखपुर के क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी रविन्द्र कुमार ने बताया कि बजट मिल गया है जल्द ही योजनाओं पर काम शुरु हो जाएगा।