देवरिया जेल में बन्द कैदी चलती फिरती पुस्तकालय से सुधार रहे हैं अपना जीवन स्तर

देवरिया: जिला जेल में बन्द बन्दियों का जीवन स्तर सुधारने के लिये जेल प्रशासन ने चलती फिरती पुस्तकालय के माध्यम धार्मिक और सामाजिक पुस्तकें उपलब्ध करा कर उनके जीवन और सोच को सुधारने का प्रयास कर रहा है।

जेल अधीक्षक डीके पाण्डेय यहां बताया कि देवरिया जिला जेल में एक हजार से ज्यादा कैदी विभिन्न अपराधों में बन्द हैं और इसमे पड़ोसी जिला कुशीनगर के बन्दी भी हैं। शासन द्वारा समय समय पर जेल में बन्द कैदियों के जीवन स्तर और उनकी सोच सार्थक बनाने के लिये पहल होती रही है।

उन्होंने बताया कि देवरिया जेल में बन्द कैदियों को शासन की पहल पर धार्मिक और महापुरूषों के जीवन पर आधारित पुस्तके चलती फिरती पुस्तकालय के द्वारा सुलभ कराई जा रही है। इस पुस्तकालय के द्वारा एक कैदी अपना नाम और बैरक नम्बर लिखवाकर ये पुस्तकें पुस्तक देने के लिये नियुक्त एक कैदी से ले रहे हैं।

उन्होंने बताया कि एक कैदी एक पुस्तक तीन से चार दिन में पढ़कर पुन: चलती फिरती पुस्तकालय से सम्बन्धित कैदी को वापस कर रहे हैं। उन्होंने बताया पुस्तक का अध्यन करने वाले कैदी से बाद में यह पूछा जा रहा है कि पुस्तक पढ़ने के बाद उसको क्या सीख और जानकारी मिली है।