अब नही करनी होगी लम्बी भाग-दौड़, नेपाल रोड को शॉर्टकट से जोड़ने वाली एक और टू-लेन

गोरखपुर: योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद अब जिले में सडकों का जाल बिछाया जा रहा है। अब शहरवासियों को नेपाल रोड जाने वाली एन एच 29 ए पकड़ने के लिए पुरे शहर का चक्कर या फिर कालेसर तक जाने की जहमत नही उठानी पड़ेगी। लोक निर्माण विभाग ने इसके लिए शार्ट कट रोड मैप तैयार कर शासन में प्रस्ताव भेजा है।

जनपद मुख्यालय से गोरखपुर-सोनौली रोड तक जाने के लिए पहले गोरखनाथ के रास्ते महेसरा पूल क्रास करके जंगल कौड़िया, पीपीगंज होते हुए जाना होता था। बाद में एन एच 29 ए की घोषणा होते ही सहजनवा के कालेसर से फोर लेन लिंक रोड को शहर के बाहर ही बाहर सीधे जंगल कौड़िया तक मिलाने के लिए केंद्रीय परिवहन मंत्री द्वारा स्वीकृति दे दी गयी।जिस पर कार्य भी शुरू हो गया है। अब इस मार्ग पर भी शहर वासियों को नही जाना होगा।

अब शहर से ही सीधे जंगल कौड़िया तक पहुंचने के लिए बेहतर विकल्प के तौर पर लोक निर्माण विभाग द्वारा रोडमैप तैयार किया गया है।जिसमे शहरी क्षेत्र के राजघाट पुल से पहले बनी लिंक रोड को उच्चीकृत करके जंगल कौड़िया तक सात किमी चौड़ी टू-लेन सड़क बनाएगा। इसके निर्माण के लिए विभाग ने शासन को प्रस्ताव भेजकर करीब 62 करोड़ का बजट मांग की है। पीडब्ल्यूडी ने आशा जताई है कि इस सड़क के बनने से लाखों लोगों को सहूलियत होगी।

पीडब्लूडी केे राजघाट से जंगल कौड़िया तक करीब 14 किमी लंबे टू-लेन का प्रस्ताव पत्र में राजघाट पुल से हार्वर्ट बंधा, डोमिनगढ़, उत्तर कोलिया, डोहरिया रोड होते हुए जंगल कौड़िया तक टू-लेन सड़क प्रस्तावित है। जिसमे राजघाट से हार्वर्ट बंधा की तरफ लगभग डेढ़ किलोमीटर टू-लेन सड़क है। इसके बाद के हिस्से में लगभग दो किलोमीटर तक पांच मीटर चौड़ी सड़क है। अंत में रोहिन नदी के किनारा होने की वजह से डोमिनगढ़ से जंगल कौड़िया तक सिंगल सड़क के चलते चार पहिया वाहन नहीं जा पाते हैं।

इस सम्बन्ध में पीडब्ल्यूडी के अधिशासी अभियंता एके सिंह का मानना है कि विभागीय प्रस्ताव के मुताबिक इस14 किमी लंबी प्रस्तावित मार्ग पर लगभग 62 करोड़ रुपये खर्च होने हैं। इनमें सड़क के निर्माण पर 32.85 करोड़ रुपये खर्च होंगे तो शेष रकम जमीन के मुआवजे में दिए जाने के काम आएंगे।