बस्ती मंडल की 13 सीटों पर भाजपा का कब्जा, विपक्षी दलों का नहीं खुला खाता

गोरखपुर: बस्ती मंडल के तीन जिलों की 13 सीटों पर भाजपा और उसके सहयोगी दलों का कब्जा हो गया हैं। जबकि विरोधी दलों में शामिल सपा, बसपा, कांग्रेस का खाता भी नहीं खुला।

बता दें कि लगभग एक माह के चुनावी संग्राम में प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी सपा सहित कांग्रेस और बसपा ने अपनी परम्परागत सीटों पर उन महारथियों को मैदान में उतारा था, जिनके सामने लड़ने वाले प्रत्याशी खुद ही अपनी हार तय मान लेते थे। किंतु 2014 के बाद 2017 में पीएम मोदी की सुनामी ने इन सभी महारथियों के किलों में जो तबाही मचाई, उसका मंजर देखने का साहस स्वयं ये महारथी भी नही जूटा पा रहे।

मोदी की इस तेज सुनामी के आगे बस्ती मण्डल के तीनों जिलों में सपा-कांग्रेस-बसपा-पीस पार्टी का खाता भी नहीं खुला। वहीं अपना दल सोने लाल ने शोहरतगढ़ की सीट जीत लीं। यहां से सपा के माता प्रसाद पांडेय, राजकिशोर सिंह, रामकरन आर्या, पीस पार्टी के अध्यक्ष डा. अय्यूब उनके पुत्र इरफान सहित कई पुराने महारथी धराशायी हो गए।

कई सीटों पर हिन्दु युवा वाहिनी के लोगों ने जीत दर्ज की हैं। कांग्रेस से दल बदल कर आयें रुधौली से संजय जायसवाल ने दोबारा जीत हासिल की हैं। वहीं बांसी से विधायक जय प्रताप सिंह भी जीत गये। इन 13 सीटों पर कांग्रेस को 1, सपा 7, बसपा व पीस पार्टी को 2-2 सीट का नुकसान उठाना पड़ा। पीस पार्टी की सियासी जमीन पर ग्रहण लग गया हैं।

वर्ष 2017 – भाजपा+अपना दल सोनेलाल 13
वर्ष 2012 – बस्ती मंडल से सपा ने 7 , कांग्रेस 1, बसपा 2, भाजपा 1, पीस पार्टी 2

बस्ती मंडल के जीते प्रत्याशी
सिद्धार्थनगर
1. शोहरतगढ़ – अमर सिंह चौरसिया (भाजपा ने अपना दल सोने लाल को यह सीट दिया था)
2. कपिलवस्तु (सु)– श्याम धनी राही
3. बांसी — जय प्रताप सिंह
4. इटवा– सतीश द्विवेदी
5. डुमरियागंज — राघवेन्द्र प्रताप

संतकबीरनगर
1. धनघटा (सु) –श्रीराम चौहान
2. मेंहदावल –राकेश बघेल
3. खलीलाबाद– दिग्विजय नारायण ‘जय चौबे’

बस्ती
1. हरैया — अजय सिंह
2. कप्तानगंज — चंद्र प्रकाश सीपी शुक्ला
3. रुद्धौली — संजय जयसवाल
4. बस्ती सदर — दयाराम चौधरी
5. महादेवा (सु) — रवि सोनकर