डॉ आशीष रंजन का शव संदिग्ध परिस्थितियों में नदी से बरामद, हाथों में ग्लव्स और रस्सी थी

गोरखपुर: महराजगंज जनपद के सिसवां सीएच सी में तैनात सीनियर मेडिकल आफिसर डॉ आशीष रंजन की लाश आज शाम संदिग्ध परिस्थितियो में राज घाट से कुछ दूर बेलीपार थानाक्षेत्र स्थित राप्ती नदी में मिली है । लाश मिलने की सूचना पर उनके घर में कोहराम मच गया तथा पूरा परिवार राप्ती तट पर पहुच गया ।मौके पर पहुची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया है।

बता दें कि महराजगंज के सिसवां स्थित सीएचसी पर बतौर सीनियर मेडिकल ऑफिसर तैनात डॉ आशीष रंजन डायबिटीज के मरीज थे।विगत 11 जुलाई को 11:20 मिनट पर डॉ आशीष अपने आप को डॉक्टर को दिखाने के लिए घर से निकले थे और उसी समय से घर से लापता थे । काफी खोजबीन के बाद भी जब वे नहीं मिले तो उनकी पत्नी ने कल उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट कैंट थाने में दर्ज कराइ थी।

जिनकी खोजबीन में जुटी पुलिस को आज राजघाट थाना इलाके के राप्ती पुल पर स्पलेंडर प्लस मोटरसाइकिल रजि0 संख्या यू0पी0 53 ज़ेड 5327 पुलिस ने लावारिस हालात में बरामद किया। जब नंबर के आधार पर मालिक का पता किया गया तो मोटरसाइकिल सिसवां सीएचसी पर तैनात डॉ आशीष रंजन की निकली।

इसी आधार पर कैंट पुलिस ने गोताखोरो और डॉग स्क्वायड की मदद तथा स्टीमर से नदी में तलाशी शुरू करायी तो बेलीपार क्षेत्र स्थित राजघाट के राप्ती नदी के चौखम्भे में फंसी डॉक्टर की लाश मिली। जिसकी सूचना पुलिस ने उनके परिजनों को दी। मौके पर पहुचे परिजनों ने शव की शिनाख्त की।

गोरखपुर के बुद्ध विहार कालोनी में रहने वाले डॉ अनिल श्रीवास्तव के पुत्र डॉक्टर आशीष रंजन (35) तारामंडल स्थित बुद्ध विहार कालोनी में रहते थे । इनकी शादी 3 बर्ष पूर्व डॉ वर्षा श्रीवास्तव से हुई थी। डॉक्टर आशीष को कोई भी औलाद नहीं थी। परिवार वालो की माने तो डॉ0 इधर कुछ दिनों से किसी बात को लेकर डिप्रेशन में चल रहे थे।फ़िलहाल अब पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के बाद ही मामले का खुलासा हो पायेगा।

डॉ रंजन के करीबियों का कहना था कि वो काफी दिनों से डिप्रेशन में थे। इनके पिता 2004 में कुशीनगर में डिप्टी सीएमओ के पद से रिटायर हुए थे । पांच भाइयों में डॉ रंजन तीसरे नम्बर के थे। जबकि इनके अन्य भाई भी विभिन्न जगहों पर उच्च पदों पर स्थापित है। बहरहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की छानबीन में जुट गई है।

स्थितियां जो बना रही संदिग्ध

1 मृतक के हाथों में ग्लव्स थे और एक हाथ मे रस्सी बंधी थी।
2 मृतक के आंख और कान से ब्लड निकला हुआ था तथा आंखे बाहर की तरफ आ गयी थी।