क्राइम

आईएसआई के लिए जासूसी के आरोप में वायुसैनिक गिरफ्तार

IAF-man-arrested-for-spyingनई दिल्ली: भारतीय वायुसेना के एक कर्मी को नौकरी से बर्खास्त कर गिरफ्तार कर लिया गया है। दरअसल, फेसबुक पर एक महिला के साथ चैटिंग के दौरान उसे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने का लालच दिया गया था।
संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध शाखा) रविंद्र यादव ने कहा, “हमने आईएसआई के लिए जासूसी करने के आरोप में पंजाब से वायुसेना के एक पूर्व कर्मी को गिरफ्तार किया है।”
केरल के रंजीत सिंह को पंजाब के भटिंडा हवाई ठिकाने से गिरफ्तार किया गया।
पुलिस ने बताया कि वह पाकिस्तान की इंटर सर्विसिस इंटेलिजेंस (आईएसआई) के लिए जासूसी कर रहा था।
भारतीय वायुसेना के एक अधिकारी ने कहा कि रंजीत भारतीय वायुसेना का एक प्रमुख एयरक्राफ्टसमैन था। उसे संवेदनशील जानकारी साझा करने के खिलाफ सबूत पाए जाने के बाद सोमवार शाम बर्खास्त कर दिया गया।
अधिकारी ने बताया, “यह मामला लंबे समय से चला आ रहा था। एक आंतरिक प्रशासनिक जांच के बाद हमने रंजीत को सोमवार शाम लगभग 5.30 बर्खास्त कर दिया।”
संयुक्त पुलिस आयुक्त रविंद्र यादव ने कहा कि दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के अधिकारियों ने आईएसआई के साथ रंजीत के संदिग्ध संपर्को के बारे में आईएएफ के साथ जानकारी साझा की थी। अपराध शाखा के ये अधिकारी इस महीने के प्रारंभ में कुछ लोगों की गिरफ्तारी के बाद से आईएसआई जासूसी रैकेट की जांच कर रहे थे।
यादव ने कहा, “भारतीय वायुसेना ने रंजीत की गिरफ्तारी के बाद उसे हमें सौंप दिया। हमने उसे सोमवार को गिरफ्तार किया और ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली लाया।”
अधिकारियों ने कहा कि रंजीत फेसबुक पर एक अज्ञात महिला के साथ चैटिंग के दौरान जासूसी के जाल में फंस गया था। वह फेसबुक पर ‘दामिनी मक्नॉट’ नामक एक प्रोफाइल वाली महिला के संपर्क में था, जिसने खुद को ब्रिटेन स्थित एक पत्रिका की कार्यकारी बता रखा था।
फेसबुक बातचीत के दौरान महिला ने कहा था कि पत्रिका को भारतीय वायुसेना के बारे में कुछ जानकारियों की जरूरत है, और उसने इसके बदले उसे धन का वादा किया था।
आईएसआई द्वारा समर्थित एक जासूसी रैकेट के हिस्से में शामिल रंजीत दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा छठा आरोपी है।
इससे पहले पुलिस इस महीने की शुरुआत में पांच अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर चुकी है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *