दवा व्यवसायी हत्याकांड के खुलासे में पेंच, आरोपी की माँ ने की सीबीआई जांच की मांग,घटना के वक्त की दी सीसीटीवी फुटेज

गोरखपुर: कैंट क्षेत्र के बेतियाहाता में गत 15 जून की रात दवा व्यापारी नीरज राम रायका हत्याकांड का आनन फानन में पुलिस ने खुलासा तो कर दिया है। लेकिन अब यह खुलासा ही उसके कार्यप्रणाली की पोल खोलेगा क्योंकि आरोपित की माँ और उसके मोहल्ले वासियों ने आज रविवार को नगर विधायक डॉ.राधा मोहन दास अग्रवाल के आवास पर 100 की संख्या में रोहित की मां गीता के साथ आए महिलाओं-पुरुषों ने घेराव कर रोहित को निर्दोष बताया।

नगर विधायक ने उनकी बात सुनने के बाद पुलिस को उचित कार्रवाई के आदेश दिए। मोहल्लावासियों ने नगर विधायक को रोहित के निर्दोष होने के साक्ष्य सीसीटीवी की वीडियो क्लिप देते हुए घटना की सीबीआई जांच की मांग की है।

गौरतलब है कि गत 15 जून को मुख्यमंत्री के वापसी के बाद कैंट क्षेत्र में दवा व्यवसायी नीरज रामरायका की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी।पुलिस ने खुलासा केवल पूर्व में उसके द्वारा दी गयी धमकी के आधार पर गिरफ्तारी दिखाते हुए कर दिया।

जबकि अब मामले में करवट लेते हुए आरोपित रोहित की माँ गीता वर्मा ने सीबीआई जांच की मांग की है। विधायक राधामोहन दास अग्रवाल और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मुलाकात के बाद उन्होंने दावा किया कि उनका बेटा रोहित निर्देश है। यदि वह दोषी से है तो चाहे जो सजा दे लेकिन मामले की सीबीआई जांच कराई जाए।

आज नगर विधायक और एसएसपी से न्याय की मांग करने उनके आवास आए मोहल्ले के मोहम्मद खालिद, अंजुमन, दिनेश, समीर, गौरव, मुन्ना, बलराम, माया देवी, निर्मला देवी, शांति देवी, कलावती, मीरा देवी, मंजू, जावेद, रमेश, मोहन सिंह, जीतू राय समेत अन्य लोगों ने आरोप लगाया कि सीएम सिटी में आए दिन हो रही वारदातों से दबाव में आई पुलिस ने जल्द खुलासे के लिए रोहित को फंसा दिया।

जबकि रोहित की मां ने कहा कि कॉल डीटेल निकाल कर रोहित की लोकेशन जानी जा सकती है। पुलिस ने जिस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर उनके बेटे को पकड़ा वह भी सार्वजनिक नहीं कर रही है।जबकि रोहित की मां गीता वर्मा ने आवास विकास कालोनी शाहपुर स्थित आवास के निकट लगे सीसीटीवी की फुटेज दिखाते हुए दावा किया कि उनका बेटा घर आ गया था।

उसे घर लौटते हुए रात 9.58 पर सीसीटीवी में देखा जा सकता है। मोहल्ले के कई लोगों से मिलता-जुलता रोहित घर लौटा था। उसके बाद उपरी मंजिल पर बने अपने कमरे में खाना खाकर सो गया था।शुक्रवार 16 जून की रात 1.49 बजे ही पुलिस ने रोहित को उसके घर से उठाया था।

सीसीटीवी फुटेज दिखा कर रोहित की मां ने यह दावा किया। सीसीटीवी फुटेज में स्कूटी, पलसर और बलोरो गाड़ी से पुलिसकर्मी उसके घर आए थे। पूछताछ के बहाने उठा कर रोहित का ले गए।