देवरिया / कुशीनगर

कभी चीनी का कटोरा कहे जाने वाले देवरिया में घट रहा है गन्ना बोने का क्षेत्रफल

वेद प्रकाश दुबे
देवरिया: कभी चीनी का कटोरा कहे जाने वाले देवरिया जनपद में चीनी मिलें बंद होने से किसान गन्ने की फसल बाने से कतराने लगे है और यहां अब गन्ना बोने के क्षेत्रफल में लगातार कमी आती जा रही है।

प्रभारी जिला गना अधिकारी वेद प्रकाश सिंह ने आज यहां इस संवाददाता को बताया कि देवरिया और कुशीनगर जब कभी एक जिला था तो रहां 14 चीनी मिले हुआ करती थी।लेकिन इस समय देवरिया जिले में चार चीनी मिलें बन्द हो चुकी और यहां एक मात्र ऐशिया की सबसे  पुरानी चीनी मिल प्रतापपुर फैक्ट्री की चीनी मिल सिजन में पेराई करती है।

उन्होंने बताया कि देवरिया जिले में बर्ष 2014-2015 में 13739 हेक्टेयर में गन्ना की बुआई किसान किये थे।जिसका औसत उपज 631.16 प्रति हेक्टेयर रहा था। इसी तरह बर्ष 2015-2016 में गन्ना क्षेत्रफल 9644.748 हेक्टेयर था और औसत उपज 609.04 प्रति हेक्टेयर रहा था। बर्ष 2016-17 बुआई का क्षेत्रफल 6961.547 प्रति हेक्टेयर रहा था और औसत उपज 626.00 प्रति हेक्टेयर रहा था। बर्ष 2017-18 गन्ना बुआई का क्षेत्रफल पिछले बर्ष से कुछ बढ़कर 7528.972 प्रति हेक्टेयर रहा है और इस साल अनुमानित औसत उपज साढ़ नौ हजार प्रति हेक्टेयर माना जा रहा है।

इसी तरह कुशीनगर जिले में दस चीनी मिले हुआ करती थी।लेकिन वर्तमान में पेराई के सिजन में पांच चीनी मिले चल रही हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को गन्ना बाने के लिये प्रेरित किया जा रहा है।जिस कारण वर्तमान बर्ष में गन्ने की बुआई के क्षेत्रफल में बर्ष की तुलना में बढोत्तरी हुई है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *