देवरिया / कुशीनगर

भाटपार रानी विधानसभा: आशुतोष उपाघ्याय से पार पाना विरोधियों के लिए नहीं होगा आसान

देवरिया(डॉ अमित कुमार पांडेय): वैसे तो जैसे जैसे चुनाव करीब आ रहा जनता अपने-अपने तरीके से आकलन करना शुरू कर देती है। परंतु एक बात सर्वविदित है की जनता जवाब मांगती है। लोकतंत्र के इस पर्व में बड़े-बड़े योद्धा एक बार फिर मैदान में आमने सामने आ चुकें हैं। लड़ाई कितनी जटिल होगी यह तो आने वाला समय बताएगा लेकिन एक बात पक्की है की काम बोलता है।
एक बार फिर चुनावी द्वंद के लिए तैयार भाटपार रानी विधान सभा अपने उम्मीदवारों की गवाही देगा। जहाँ समाजवादी पार्टी ने निवर्तमान विधायक आशुतोष उपाधयाय पर एक बार फिर भरसोहा जताया है तो वही बसपा की तरफ से सभाकुंवर ताल ठोक रहें हैं। भाजपा ने जयनाथ कुशवाहा को चुनावी मैदान में उतारने का निर्णय लिया है।
जातिगत समीकरणों की बात करे तो यह विधान सभा बहुजातीय अन्तरद्वन्दो के बीच में फसा हुआ है। लेकिन बात करें अगर लोगों की तो इस विधानसभा में वोटरों ने काम करने वालो को महत्व दिया। कांग्रेस में रहे हो या समाजवादी पार्टी में विधान सभा के मतदाताओं ने उपाध्याय परिवार के ऊपर खुलकर विश्वास जताया।
उस का कारण कुछ भी रहा हो लेकिन इस बात को आप कत्तई नही नकार सकते की इस दौर में मतदाता किसी को भी आँख बंद कर के वोट नहीं करता। कामेश्वर उपध्याय के निधन के उपरांत खाली जगह की संभावना बन रही थी लेकिन उनके पुत्र और निवर्तमान युवा विधायक आशुतोष ने न सिर्फ वो जगह भरी, बल्कि जनता के अपेक्षाओं के अनुरूप कार्य भी किया।
आज इस विधान सभा में किसी भी जाति धर्म का व्यक्ति, अपनी भावनाओ को व्यक्त करते हुई आशुतोष उर्फ़ बबलू पर अपनी श्रद्धा व्यक्त करता है। ऐसा कोइ भी मौका नहीं होगा जब क्षेत्रीय विधायक अपने सहयोगियों के साथ किसी के सुख दुःख में न दिखाई दिए हों। अपनी साफ़ सुथरी छवि के कारण समाज के हर वर्ग चाहे वो सवर्ण हो या पिछड़ी के बीच श्री उपध्याय को समर्थन मिलता दिखाई देता है।
विधान सभा के कार्यो का आकलन करे तो विधायक निधि का सारा धन खर्च हो चुका है और लोगों की मांग के अनुरूप क्षेत्र का विकास कार्य कराया है। इसलिए इस विधान सभा में लग्न की जुबान पर बस एक ही बात है की ‘काम बोलता है।’

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *