देवरिया / कुशीनगर

कुशीनगर: भाकियू ने मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा

आदित्य कुमार दीक्षित
कुशीनगर: भारतीय किसान यूनियन (भानु) के जिलाध्यक्ष रामचन्द्र सिंह के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने आज मुख्यमन्त्री को सम्बोधित छ: सूत्रीय मागों का ज्ञापन उपजिलाधिकारी, तमकुही को सौपा। ज्ञापन में भाकियू ने कहा है कि जनपद कुशीनगर में राशन वितरण प्रणाली पूरी तरह से ध्वस्त हो चुका है। आज भी अधिकारी और कर्मचारी कोटेदारों को बचाने मे लिप्त है। साथ ही साथ कुछ ऐसे अधिकारी और कर्मचारी है जो भूमाफियाओं, बालूमाफियाओं और शराबमाफियाओं को सह दे रहे है।

यूनियन के जिलाध्यक्ष ने मुख्यमत्री योगी आदित्यनाथ से कुशीनगर के कप्तानगंज तहसील के सोहनी चौराहे के पास मई महीने में भारी मात्रा मे पकडे गए सरकारी राशन के मामले की सीबीआई जांच की मांग की। उन्होंने इस मामले में जिला पूर्ति अधिकारी को भी बर्खास्त करने की मांग की। उन्होंने कहा कि जिम्मेदारों पर कार्यवाई जनहित में एक बड़ा कदम है और इससे जनपद में हो रहे सरकारी राशन की कालाबजारी को रोका जा सकेगा।

उन्होंने आरोप लगाया कि ग्राम सभा फरदहां, तहसील मोतीचक, जनपद कुशीनगर के कोटेदार द्वारा गरीबों का शोषण किया जा रहा है। इस सम्बन्ध मे ग्राम सभा फरदहां के पीड़ित लोग कई बार तहसील दिवस, एक बार जिलाधिकारी, एक बार मंडलायुक्त और पांच बार मुख्यमन्त्री कार्यालय मे शिकायत भेज चुके है उसके बाद भी अधिकारी और कर्मचारी लोग इस विषय की ओर ध्यान नही दे रहे है और बार-बार झूठी आख्या लगाकर सीएम कार्यालय में भेज दे रहे हैं।

गांव वालों का शिकायत है कि कोटेदार ने माह अप्रैल, मई, जून और अगस्त 2016 में वितरण रजिस्टर मे काफी गडबडी किया है जिसकी शिकायत लगातार तहसील स्तर से लेकर मुख्यमंत्री कार्यालय तक किया गया और पूर्ति निरीक्षक द्वारा जाँच भी किया गया मगर उस कोटेदार के ऊपर कोई कार्यवाही नही हो रहा है। उन्होंने कहा कि कार्यवाई ना होना यह दर्शाता है कि कर्मचारी इतने बड़े घोटाले को लगभग दो साल से कैसे छिपाने मे लगे हुए है।

गांव वालों का कहना है कि उस कोटेदार के कोटे को दूकान को हमेशा के लिए रद्द किया जाये और नए कोटे की दूकान को खोला जाये जो जनहित मे होगा। इस पुरे प्रकरण मे पूर्ति निरीक्षक की भूमिका सन्दिध है। हमारा यूनियन माँग करता है कि इस पुरे प्रकरण की जिलास्तरीय जाँच कराई जाय तभी पुरे तथ्य उजागर होगे और जो दोषी पाया जाता है उसके ऊपर कार्यवाही होना चाहिए।

ज्ञापन में कहा गया है कि नगर परिषद, पडरौना में सुभाष चौक से गाँधी चौराहे के बीच NH 28 के पूरब तरफ पूंजीपति अशोक केडिया द्वारा जमीन कब्ज़ा करने के खिलाफ भी शिकायत की गयी है। उन्होंने कहा कि यदि कोई अधिकारी इन भूमाफियाओं और बलूमाफियाओं के ऊपर लगाम लगाने की कोशिश करता है तो यह भूमाफ़ियाओं, बालू माफिया और कुछ सरकार मे शामिल सफेदपोश लोग उस अधिकारी का ट्रान्सफर करा देते है ताकि उनका बाज़ार हमेशा चलता रहे। इसी का जीता जागरण उदाहरण प्रमोद कुमार, पूर्व उपजिलाधिकारी, कप्तानगंज को तमकुही और त्रिभुवन, उपजिलाधिकारी को तमकुही से गैर जनपद मे करा दिया गया जो दुर्भाग्यपूर्ण है।

उन लोगों ने कहा कि जनपद के तहसील क्षेत्र कप्तानगंज मे इस समय बालू माफियाओं और शराब-माफियाओं का बोलबाला काफी बढ़ गया है। यह दोनों माफियाओं खुलकर अवैध बालू खनन और देशी शराब की तस्करी मे लगे हुए है और जिला प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है। हमारी यूनियन मांग करती है कि इन माफियाओं के ऊपर जल्द से जल्द कार्यवाही किया जाय।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *