देवरिया / कुशीनगर

कुशीनगर: परिजनों का आरोप, कैबिनेट मन्त्री की शह पर नहीं हो रही गिरफ्तारी

आदित्य कुमार दीक्षित
कुशीनगर: जहां एक तरफ सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ अपराधियों की नकेल कसने में लगे हुए हैं तो वहीं उनकी सरकार के मन्त्री अपराधियों को संरक्षण देने का काम कर रहे हैं। यहां मामला कुशीनगर जनपद के पडरौना कोतवाली थानाक्षेत्र का है। जहां मन्त्री स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा शह दिए जाने की वजह से प्राणघातक हमला करने वाले आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पा रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक जनपद के कोतवाली पडरौना थानान्तर्गत एक गांव में दबंगो द्वारा एक व्यक्ति पर प्राण घातक हमला करने के मामले में पुलिस द्वारा अभी तक कोई कानूनी कार्यवाही न किये जाने से पुलिस प्रशासन कठघरे में खड़ा हो रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एक महीना पूर्व जनपद के कोतवाली पडरौना थानाक्षेत्र के जंगल कुरमौल निवासी हरिलाल यादव पुत्र लोरिक यादव बीते 30 अक्टूबर को सुबह 7 बजे अपने खेत की तरफ जा रहे थे, कि अचानक वहां पहले से ही घात लगाकर बैठे दबंगो ने धारदार हथियार व लाठी डंडो से मार पीट कर उनका हाथ व पैर दोनों तोड़ दिया।

घटना की सूचना मिलने पर परिजन उनको लेकर अस्पताल गए जहां से रिपोर्ट लेकर पडरौना कोतवाली मे दबंगों के खिलाफ कार्यवाही हेतु प्रार्थना पत्र दिया लेकिन घटना के एक माह बीत जाने के बाद भी कोतवाली पडरौना द्वारा अबतक अभियुक्तों की गिरफ्तारी न होने से पुलिस पर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हमलावर दबंगों की गिरफ्तारी राजनैतिक दबाव में नही की जा रही है।

ऐसी खबर मिल रही है कि भाजपा के सदर विधायक व सरकार में मन्त्री स्वामी प्रसाद मौर्य का हाथ उन दबंगों के सिर पर है, जिसकी वजह दे पुलिस उनको गिरफ्तार करने में कतरा रही है। पुलिस द्वारा दबंगों के खिलाफ अभी तक कोई भी कार्यवाही न किये जाने से जहां एक तरफ हरिलाल के परिजनों में दहशत का माहौल है तो वहीं इनका पुलिस पर से अब विश्वास भी उठता दिख रहा है।

परिजनों के अनुसार स्थानीय स्तर पर पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही न किये जाने से निराश होकर उन्होंने अपर पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक कुशीनगर, डीआईजी, अपर पुलिस महानिदेशक के पास भी अपनी शिकायत दर्ज कराते हुए, उनसे भी न्याय की गुहार लगायी है लेकिन घटना को लगभग 1 एक महीना होने के बाद भी अभी तक हमें न्याय नहीं मिल सका है। अब सवाल यह उठता है कि अगर सरकार के मंत्री ही अपराधियों को संरक्षण देते रहे तो फिर अपराधियों और अपराधों पर लगाम कैसे लगेगा………..?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *