देवरिया / कुशीनगर

जायसवाल ग्रुप पर शख्त हुई योगी सरकार, किसानों का बकाया धन वसूलने पहुंचे कुशीनगर के आला अफसर

मोहन राव
कुशीनगर: पडरौना चीनी मिल के अच्छे दिन बहुरने के आसार दिख रहे हैं। एक तरफ जहां मिल की नीलामी हो गई वहीं दूसरी तरफ बकाया गन्ना मूल्य के लिए जनपद के आला अफसर बनारस पहुंच गए हैं। उच्च न्यायालय के आदेश पर जायसवाल ग्रुप पर कार्यवाही भी शुरू हो गई है।

यहां बताते चलें कि पडरौना चीनी मिल कानपुर शुगर वर्क मिल के अन्तर्गत है। सन 2005-06 और 2011-12 इस चीनी मिल को जेएचबी ग्रुप ने चलाने का जिम्मा लिया था और चीनी मिल चली भी। गन्ना किसानों का भुगतान न किए जाने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सरकार को किसानों का बकाया भुगतान कराने का निर्देश दिया। लेकिन जायसवाल ग्रुप द्वारा बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान न करने पर राज्य सरकार ने मिल से बेदखल कर दिया।

ग्रुप पर किसानों का 46 करोड़ 75 लाख 92 हजार बकाया राशि हो गई। हाईकोर्ट के निर्देश पर कुशीनगर के प्रशासनिक अधिकारी चंदौली के पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल व ग्रुप के मुखिया से उक्त धनराशि वसूलने के लिए उनके स्वामित्व वाले वाराणसी स्थित रमाडा होटल तथा जेएचबी माल पहुंच गए। इस मामले को लेकर पूर्व सांसद से अधिकारियों की बात भी हुई।

दोनों स्थानों पर अधिकारियों ने वसूली का नोटिस चिपका दिया और उन्हें 24 घंटे का मोहलत भी दिया। यदि जेएचबी ग्रुप मंगलवार शाम तक धनराशि जमा नहीं करता है तो होटल और माल सील किया जाएगा बाद में इन की नीलामी से धन वसूला जाएगा।

सूत्रों की माने तो हाईकोर्ट की चाबुक से बचने के लिए अधिकारियों ने आनन फानन में कार्रवाई शुरू कर दी है। कोर्ट ने 30 जनवरी तक का समय दिया है और इसी महीने में हाई कोर्ट में डेट भी लगी है। कोर्ट में जवाब देही से बचने के लिए इस बार किसानों का बकाया वसूलने के लिए तत्पर हों गये है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *