देवरिया / कुशीनगर

पूर्वांचल के ही नहीं देश के धरोहर थे मोहन सिंह: माता प्रसाद पाण्डेय

mata-prasad-pandeyदेवरिया: समाजवादी चिंतक व विचारक स्व मोहन सिंह समाजवाद के सच्चे हितैषी के साथ साथ पूर्वांचल ही नहीं देश के धरोहर थे। उनके विचारों को आत्म सात करना ही उनके लिये सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
उक्त बाते आज देवरिया में समाजवादी चिंतक मोहन सिंह के तृतीय पुण्यतिथि पर पर बोलते हुये विधान सभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय ने कही। उन्होंने कहा कि बाबू मोहन सिंह गरीबों और मजलूमों के के आवाज उठाने के लिये जाने जाते थे।
mata-prasad-pandey-1एक संस्मरण सुनाते हुये कहा कि एक बार सदन में विधायकों के वेतन व पेंशन के मुद्दे पर मोहन सिंह ने विरोध जताते हुये कहा था कि देश सेवा करने वाले नेताओं को कैसा पेंशन। देश सेवा की सेवा व्यक्ति के जज्बे में होता है। जब मैने उनके इन बातों को सुना तो यह लगा कि यह आदमी तो सच्चा देश भक्त है।
श्री पाण्डेय ने कहा कि उनकी बेबाक टिप्पणी के कारण हमेशा लोगों को दिशा देने का कार्य करते रहे। इसी कारण उन्हें संसद ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ सांसद के पद से नवाजा गया था। बाबू मोहन सिंह हमेशा जाति धर्म से ऊपर उठकर गरीबों और शोषित वर्ग के लोगों के उत्थान के लिये लड़ाई लड़ते रहे।
स्व मोहन सिंह की पुत्री पूर्व सांसद कनकलता सिंह ने कहा कि बाबूजी हमेशा गरीबों आदि के लिये कार्य करते रहे और आज मै उनके आदर्शों पर चलकर उनके पद चिन्हों पर चलने का प्रयास कर रही हूं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *