देवरिया / कुशीनगर

कम बंदी रक्षक, बिना सीसीटीवी के हो रही है देवरिया जेल में बंद 1600 कैदियों की निगरानी

वेद प्रकाश दुबे  
देवरिया: 1952 में बनी देवरिया जेल में आवश्यकता से कम बंदी रक्षकों तथा बिना सीसीटीवी कैमरे के 1600 से ज्यादा कैदियों की निगरानी हो रही है। जेल सूत्रों के अनुसार देवरिया जिला जेल 1952 में बनी थी और उस समय जेल की क्षमता 533 बंदियों की रखने की थी। आज यहां देवरिया और कुशीनगर को मिलाकर इस समय करीब 1692 बंदी जेल में हैं।

इस जेल में 17 बैरक हैं। इन कैदियों की सुरक्षा तथा जांच पड़ताल के लिये यहां 60 बन्दी रक्षक तैनात हैं, जो कैदियों के मानक के अनुसार बहुत ही कम है। इस जेल में फूलपुर से पूर्व सांसद अतीक अहमद सहित कई शातिर अपराधी बंद हैं।

जहां एक तरफ बागपत जिला जेल में चर्चित अपराधी मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद विभिन्न जेलों में बन्द चर्चित माफिया बदमाश अपनी सुरक्षा को लेकर सहमें दिख रहे हैं। ऐसे में देवरिया जेल भी कोई अपवाद नहीं है। बंदी रक्षकों की कमी और सीसीटीवी कैमरे न होने से यहां भी बंद चंद चर्चित अपराधी सहमें लग रहे हैं।

जेल अधीक्षक डी के पाण्डेय का कहना है कि अभी तक इस जेल में सीसीटीवी कैमरे नहीं लग सके हैं। उन्होंने बताया कि देवरिया जिला जेल में जल्द ही बीस से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लग जायेंगे और इस पर काम हो रहा है।कम बंदी रक्षक होने के बाद भी जेल में सुरक्षा व्यवस्था और चौकस कर दी गई है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *