देवरिया / कुशीनगर

कुशीनगर: पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा, धारदार हथियार से हुई थी जयराम गोंड़ की हत्या

आदित्य कुमार दीक्षित
कुशीनगर: जनपद के जिला मुख्यालय स्थित एआरटीओ कार्यालय के सामने सोमवार की देर रात हुए हत्या का पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने से इस मामले में नया मोड़ आ गया है। मिली जानकारी के मुताबिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉक्टरों ने यह बताया है कि, जयराम गोंड़ की हत्या गोली मारकर नहीं बल्कि धारदार हथियार गुप्ती को गले मे घोंपकर की गयी है।

बताते चलें कि सोमवार की देर रात को कोतवाली पडरौना थानान्तर्गत ग्राम भिसवा सरकारी निवासी दवा व्यापारी जयराम गोंड़ को बदमाशों ने रविंद्रनगर धुस स्थित एआरटीओ तथा एसपी कार्यालय के बीच में दुकान बंद कर घर जाते समय मौत के घाट उतार दिया था। घटनास्थल पर पँहुचे लोगों तथा आसपास के निवासियों के मुताबिक घटना के समय गोली चलने की आवाज सुनी गई थी, इससे यह मालूम हुआ कि इस हृदयविदारक घटना को गोली मारकर अंजाम दिया गया है। इस वारदात के बाद इलाके में सनसनी फैल गई थी।

स्थानीय लोगों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। मंगलवार की सुबह जयराम के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद डाक्टरों ने बताया कि, यह हत्या गोली लगने से नहीं बल्कि किसी नुकीले हथियार गुप्ती से किये जाने की पुष्टि की है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस ने इस मामले में पीड़ित परिजनों की तहरीर पर सुसंगत धाराओं में आठ लोगों पर नामजद मुकदमा पंजीकृत कर उनको अभियुक्त बनाया है, तथा तीन लोगों को गिरफ्तार कर पुलिस बाकी अभियक्तों की गिरफ्तारी की कोशिश में जुटी हुई है।

घटना के अन्तर्गत मिली जानकारी के अनुसार गत वर्ष हुए बृजेश तिवारी हत्याकांड के आरोपी मन्तोष गोंड़ तथा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार सन्तोष गोंड़ के पिता जयराम गोंड़ निवासी भिसवा सरकारी रविंद्रनगर पुलिस चौकी के बगल में दवा की दुकान चलाते थे। वह सोमवार की रात लगभग 8:00 बजे दुकान बन्द कर अपनी मोटरसाइकिल से घर वापस जा रहे थे। अभी वो अपने गांव के रास्ते पड़ने वाले एआरटीओ दफ्तर के समीप पहुंचे थे कि वहां पहले से ही घात लगाकर बैठे बदमाशों ने उनकी गाड़ी रोक दी और जयराम अभी कुछ समझ पाते कि बदमाशों ने गुप्ती से उनके गर्दन के दाहिने तरफ घोप दिया जिससे खून से लथपथ हो कर जमीन पर गिर कर तड़पने लगे तथा बदमाश घटना को अंजाम देकर वहां से फरार हो गए।

घटना की सूचना तथा गोली चलने की आवाज सुनकर घटनास्थल पर पँहुचे लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी, सूचना मिलते ही एसपी, एएसपी, कोतवाल पडरौना मयफोर्स मौके पर पहुंच उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल भिजवाया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना के बारे में पूछे जाने पर सीओ नितेश प्रताप सिंह ने बताया कि इस मामले में मृतक के पुत्र के नामजद तहरीर पर भारतीय दंड विधान की धारा 302, 504 ,120 बी एससी एक्ट के तहत 8 लोगों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है तथा तीन लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द इस हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया जाएगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *