देवरिया / कुशीनगर

कुशीनगर: जनपद में ग्रामीण मार्गों का हाल बेहाल, कैसे होगा गांव का विकास!

मोहन राव
कुशीनगर: जनपद में ग्रामीण मार्गों का हाल बेहाल है। बरसात के सड़के तालाबनुमा बन गई हैं। ग्रामीण इसे घटिया निर्माण कार्य मानते हैं तथा बताते है कि भारी भरकम कमीशन बाजी के चलते सड़क निर्माण में ठेकेदार द्वारा मटेरियल की कटौती की जाती है। सड़क कमजोर हो जाती हैं जिसके चलते बरसात में टूट कर बेहाल हो गई हैं।

इसी तरह का एक मामला जनपद के मोतीचक विकासखंड के ग्राम सभा असना भलुही में है। जहां पर ठेकेदार ने डेढ़ किलोमीटर सड़क अधूरी ही छोड़ दी है। आवागमन में आ रही परेशानी से आजिज जाकर लोग गुहार लगा रहे हैं, तथा आक्रोशित भी हैं।

यहां बताते चलें कि तिनहवा बोदरवार मार्ग एकमात्र मार्ग है जो हाटा- रामकोला विधानसभा को जोड़ता है। इसी मार्ग पर असना भलुही गांव पड़ते हैं और यह मार्ग टूट चुका है। इस रास्ते पर आने आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। ठेकेदार द्वारा डेढ़ किमी तक सड़क ही नहीं बनाया गया है। आईडीएफ 22 योजना के तहत वर्ष 2017-18 में इस सड़क के चौड़ीकरण एवं सुंदरीकरण का ठेका पीडब्लूडी द्वारा दिया गया था।

सड़क का शिलान्यास माननीयों द्वारा किया गया था। जिसका बकायदा शिलापट्ट 8 अप्रैल को लगा है। शिलापट्ट पर स्थानीय सांसद राजेश पाण्डेय, हाटा विधायक पवन केडिया, रामकोला विधायक रामानंद बौद्ध और तत्कालीन जिलाधिकारी आंद्रा वामसी का नाम अंकित है।

ग्रामीणों ने इस बदहाल सड़क की सूचना पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारियों को दी है। अभी तक किसी अधिकारी ने इसको संज्ञान में नहीं लिया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *