देवरिया / कुशीनगर

मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद देवरिया जेल में सुरक्षा और कड़ी, अतीक अहमद यहीं है कैद

वेद प्रकाश दुबे
देवरिया: बागपत जेल में मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद यहाँ जिला जेल में बंद शातिर बदमाशों की सुरक्षा व्यवस्था और कड़ी कर दी गई है। यहां बंदियों की संख्या 1500 से ज्यादा बताई जा रही है। इसकी तुलना में यहां बंदी रक्षकों की संख्या काफी कम है। जेल में अभी तक सीसीटीवी कैमरा नहीं लगाया जा सका है। अभी तक उत्तर प्रदेश के जेलों में सुरक्षित मानी जाने वाली देवरिया जेल की गिनती अब अब संवेदनशील जेलों में होने लगी है।

करीब डेढ़ सालों में यहां की जेल में शिकायतों की बाढ़ आ गई है। पूर्व में यहां की जेल चेकिंग के दौरान आपत्तिजनक सामान मिलने की खबर भी मिलती रही है। यहां की जेल में फूलपुर से पूर्व सांसद अतीक अहमद, आजमगढ़ का शातिर बदमाश सीताराम यादव, जौनपुर का बदमाश अजय सिंह, हाथरस का राम विजय, सहारनपुर का सुनील सिंह, वाराणसी का अजय यादव, सीतापुर का शातिर बदमाश मुलायम यादव और अंकुर बंद हैं।

सूत्रों के अनुसार बागपत की घटना के बाद यहां की जेल में बैरकों की जांच और जेल में सतर्कता बरती जा रही है तथा बंदी रक्षकों को 24 घंटे सतर्क रहने को कहा गया है।

जेल अधीक्षक डीके पाण्डेय ने यहां इस संवाददाता को बताया कि 1952 की बनी देवरिया जेल में बंदियों की रखने की क्षमता 533 है। लेकिन इस समय देवरिया और कुशीनगर के बंद कैदियों की संख्या 1692 है। इस समय यहां 60 रक्षकों की तैनाती है, जो कैदियों के हिसाब से कम है। ये साठ बंदी रक्षक जिला जेल में स्थापित 17 बैरकों की चेकिंग और सुरक्षा व्यवस्था रूटीन के अनुसार संभाल रहे हैं।

श्री पाण्डेय ने बताया कि देवरिया जिला जेल में अभीतक सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं और अब लगाने की कवायद शुरू हो गई है।जल्द ही यहां जेल के अन्दर बीस सीसीटीवी कैमरे लगा दिये जायेंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *