डॉक्टर ज्ञानेश नन्दन लाल श्रीवास्तव को देवरिया जेल में बंद सोनू सिंह ने दी धमकी

गोरखपुर: योगीराज में एक चिकित्‍सक को फिर जेल से धमकी भरी कॉल आई है. इस बार यह कॉल देवरिया जेल में बंद बदमाश ने की है. चिकित्‍सक को धमकाने वाले ने कहा है कि वह अपना मुकदमा वापस ले लें, नहीं तो वह जेल से निकल जाएगा तो उनकी जान लेने में समय नहीं लगेगा. योगी के शहर में किसी चिकित्‍सक को जेल में बंद बदमाश द्वारा सवा माह में कॉल और चिट्ठी लिखकर धमकी देने का यह तीसरा मामला है.

कैण्‍ट थानाक्षेत्र के नाक, कान गला रोग विशेषज्ञ डा. ज्ञानेश नंदन लाल का नर्सिंग होम है. नर्सिंग होम के ऊपरी हिस्‍से में वह परिवार के साथ रहते हैं. इसी माह की एक तारीख को उनके मोबाइल पर देवरिया जेल में बंद सोनू सिंह ने मोबाइल नंबर 7348459804 से कॉल कर धमकी दी. सोनू ने डा. ज्ञानेश नंदन लाल से कहा कि वह अपना मुकदमा वापस ले लें और जेल में बंद होने और मुकदमें का खर्च भी दें, नहीं तो वह हमेशा जेल में नहीं रहेगा. वह जिस दिन जेल से बाहर निकलेगा उनकी जान ले लेगा.

उसने यह भी धमकी दी कि अगला निशाना उनका बेटा और बेटी होंगे. इसके साथ ही उसने चिकित्‍सक डा. ज्ञानेश नंदन लाल को अपशब्‍द भी कहे.

दरअसल पिछले साल सितम्‍बर माह में ही देवरिया जिला का रहने वाला सोनू सिंह चिकित्‍सक डा. ज्ञानेश नंदन लाल के नर्सिंग होम पर असलहे के साथ अपने दो साथियों के साथ चढ़ गया था. वह चिकित्‍सक के कमरे में जबरन घुसने का प्रयास कर रहा था. लेकिन चिकित्‍सक डा. ज्ञानेश नंदन लाल के कर्मचारियों की तत्‍परता के कारण उसे भागना पड़ा था. इस दौरान उसने भागते समय तीन फायर भी किए थे. जिसमें दो कर्मचारियों सहित तीन लोग घायल भी हो गये थे. यह घटना सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई थी.

जब पुलिस का दबाव बना, तो सोनू सिंह किसी अन्‍य मामले में अपनी जमानत निरस्‍त कराकर जेल चला गया और तभी से देवरिया जेल में बंद है.उसने डा. ज्ञानेश नंदन लाल से मोबाइल पर काफी देर तक बातचीत की. वह बार-बार अपनी पत्‍नी का हवाला देकर डाक्‍टर को धमकी देता रहा और यह भी कहता रहा कि चिकित्‍सक ने उसकी पत्‍नी से बातचीत करके उसका परिवार बर्बाद कर दिया. वह उसे छोड़ेगा नहीं. चिकित्‍सक डा. ज्ञानेश नंदन लाल बार-बार उसे सफाई भी दे रहे हैं. लेकिन, वह उनकी एक नहीं सुन रहा है और उन्‍हें अपशब्‍दों से नवाज भी रहा है.

हालांकि डा. ज्ञानेश ने उसकी कॉल को रिकार्ड कर लिया और पुलिस को ऑडियो सौंपते हुए कैण्‍ट थाने में तहरीर भी दे दी है.इस मामले में गोरखपुर के एसपी सिटी विनय कुमार सिंह ने बताया कि चिकित्‍सक डा. ज्ञानेश नंदन लाल को सोनू सिंह नाम के बदमाश ने कॉल कर धमकी दी है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

उन्‍होंने यह भी स्‍वीकार किया कि यह कॉल उन्‍हें देवरिया जेल से ही की गई है. एसपी सिटी जिस तरह से यह बात स्‍वीकार कर रहे हैं कि कॉल देवरिया जिला जेल से की गई है उससे यह साफ होता है कि बदमाशों और पुलिस के बीच जेल में भी काफी सांठ-गांठ है. नहीं तो उस तक आखिर मोबाइल कैसे पहुंच जाता.

इसके पहले भी मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के करीबी शाही ग्‍लोबल हास्पिटल के मालिक डा. शिव शंकर शाही से 28 जून को गोरखपुर जेल में बंद बदमाश संजय यादव द्वारा 20 लाख रुपए की रंगदारी मांगी गई थी. इसके बाद 1 जुलाई को टाइमिनियर हास्पिटल के मालिक डा. शशिकांत दीक्षित से रजिस्‍टर्ड डाक से बदायूं जेल में बंद कुख्‍यात बदमाश चंदन सिंह के नाम से 20 लाख रुपए की रंगदारी मांगी गई थी. सवा माह में जेल से धमकी की इस तीसरी घटना से चिकित्‍सकों की सुरक्षा पर सवाल खड़े कर दिए हैं.