जगदम्बिका पाल के चचेरे भाई के हत्या के मामले में पूर्व मंत्री राम करन आर्य को आजीवन कारावास

बस्ती: सपा सरकार में खेल, युवा कल्याण, बाह्य सहायतित व आबकारी राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रहे रामकरन आर्य को हत्या के मामले में आजीवन कारावास और 20 हजार रुपए अर्थदंड की सजा मिली है। यह सजा जिला जज अनिल कुमार पुण्डीर की अदालत ने सोमवार को सुनाया। उन पर 23 नवम्बर 1994 में तत्कालीन सदर विधायक जगदम्बिका पाल के चचेरे भाई व कांग्रेस नेता शंभूशरण पाल की गोली मारकर हत्या करने का आरोप था। मुकदमा कोतवाली थाने में शंभूशरण के चचेरे भाई जयबक्श पाल ने दर्ज कराया था।

जयबक्श पाल ने तहरीर में पुलिस को बताया था कि 23 नवम्बर 1994 को दिन में करीब बारह बजे शहर के फौव्वारा तिराहा से आवास-विकास गेट के बीच काली मंदिर के पास नगर पूरब के विधायक रामकरन आर्य ने शंभूशरण पाल की जीप के आगे अपनी गाड़ी खड़ा कर रोक लिया। तीन गनर और छह अन्य साथियों के साथ शंभूशरण को घेरकर अपनी लाइसेन्सी डबल बैरल बन्दूक से एक गोली शंभूशरण पाल को मार दी। मौके पर ही शंभूशरण की मौत हो गई।

हत्या के दूसरे दिन रामकरन आर्य को पुलिस ने बलरामपुर से गिरफ्तार कर लिया। सुप्रीम कोर्ट से मुकदमा निस्तारण की समय सीमा निर्धारित होने के 22 साल बाद जिला जज ने उन्हें सोमवार को दिन में करीब तीन बजे आजीवन कारावास और अर्थदंड की सजा सुनाई। साक्ष्य के अभाव में अन्य नौ आरोपित बरी हो गए। वादी ने कहा कि बरी हुए लोगों के खिलाफ वह ऊपर की कोर्ट में अपील कर करेंगे।

बता दें कि 2012 से 2017 तक प्रदेश में सत्तारूढ़ रही सपा सरकार में बस्ती जनपद के महादेवा से विधायक रहे राम करन आर्य खेलकूद राज्यमंत्री रहे। सजा सुनाने से पूर्व अदालत परिसर को खाली कराया गया था। अदालत के आदेश पर पुलिस ने राम करन आर्य को कस्टडी में लेकर जेल भेज दिया।

Martia Jewels
Martia Jewels
Martia Jewels