फाइनल रिपोर्ट स्पेशल

बदली नजर आएगी तरकुलहा देवी, बुढ़िया माई समेत जिले के दर्शनीय स्थलों की सूरत

गोरखपुर: जिले का पर्यटन विभाग ऐसे स्थलों पर एक ग्लोशाइन बोर्ड लगाने की तैयारी कर रहा है, जो अब धरोहरों की श्रेणी में आ चुके हैं। जिस पर उस स्थल का संक्षिप्त इतिहास लिखा होगा। इसके लिए पहले चरण में छह धरोहर स्थलों का चयन किया गया है। इनमें बसंत सराय, मोती मस्जिद, बुढि़या माई का स्थान, गीता वाटिका, गीता प्रेस, सूर्यकुंड धाम शामिल हैं। साथ ही साथ विभाग के प्रयास से जिले के दो महत्वपूर्ण देवी स्थल तरकुलहा माई और विनोद वन में मौजूद बुढि़या माई स्थान की सूरत जल्द बदली-बदली नजर आएगी। पर्यटन विभाग ने इसके सुंदरीकरण की मुकम्मल योजना तैयार कर ली है।
बता दें कि जनपद के प्रत्येक धार्मिक और दर्शनीय स्थल के सुंदरीकरण के लिए विभाग की ओर से 10-10 लाख का प्रस्ताव तैयार किया गया है। इस प्रस्तावित रकम से इन स्थलों के परिसर की सड़कों पर इंटरलाकिंग ईट लगाई जाएगी। इसके अलावा आकर्षण बढ़ाने के लिए इन स्थलों को चहारदीवारी से घेरा जाएगा। यहां पहुंचने वाले श्रद्धालुओं के विश्राम के लिए यात्री शेड बनाया जाएगा, साथ ही शुद्ध पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी।
पर्यटन विभाग के उप निदेशक आर के रावत ने बताया कि प्रस्ताव को जिला नियोजन एवं अनुश्रवण समिति के समक्ष रखा जाएगा। अनुमोदन होने के बाद धन स्वीकृत होते ही सुंदरी करण का कार्य शुरू करा दिया जाएगा। कोशिश यही है कि यह स्थान आस्था के साथ-साथ पर्यटन की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण हों। लोगों को यहां आने के बाद किसी तरह की दिक्कत न हो। साथ ही साथ गोरखपुर जिले की धरोहर बन चुके स्थलों और इमारतों का इतिहास जानने के इच्छुक लोगों के लिए यह खुशखबरी है।
पर्यटन विभाग ऐसे स्थलों पर एक ग्लोशाइन बोर्ड लगाने की तैयारी कर रहा है, जिस पर उस स्थल का संक्षिप्त इतिहास लिखा होगा। इसके लिए पहले चरण में छह धरोहर स्थलों का चयन किया गया है। इनमें बसंत सराय, मोती मस्जिद, बुढि़या माई का स्थान, गीता वाटिका, गीता प्रेस, सूर्यकुंड धाम शामिल हैं। गोला बाजार स्थित शाह इनायत अली की दरगाह और कैंपीयरगंज के शिव मंदिर परिसर का सौंदर्य भी बढ़ाया जाएगा।
पर्यटन विभाग के उप निदेशक आरके रावत ने बताया कि लोग जिले में मौजूद धरोहरों को तो जानते हैं लेकिन इनके इतिहास की जानकारी कम ही लोगों को है। ऐसे में इतिहास बताने की जिम्मेदारी पर्यटन विभाग ने संभाली है। इससे धरोहर के प्रति लोगों का आकर्षण भी बढ़ेगा।

Related Posts