फाइनल रिपोर्ट स्पेशल

डिस्कवरी तो दिलचस्प है: आसमान, जमीन व पानी के जीव मिलते है अलीनगर में एक छत के नीचे

Discoveryगोरखपुर: डिस्कवरी चैनल के तो सभी दीवाने है। जहां पर तरह.तरह के जीवों के बारे तमाम रोचक जानकाारियां मिलती है। बरबस ही लोग इसके तरफ खींचे चले जाते है। हमेशा से लोगों को रूझान दूसरे जीवों के जीवन पर रहा है। शौक के तौर पर जीवों को पालने का बड़ा क्रेज है। कुछ इसी तरह की डिस्कवरी हमारे शहर में भी मौजूद है।
शहर के अलीनगर में इस तरह की बड़ी दिलचस्प दुकान है। इसके मालिक मोहम्मद सत्तार ने डिस्कवरी चैनल से प्रभावित होकर दस साल पहले दुकान खोली। नाम दिया डिस्कवरी। जहां पर आसमान, जमीन व पानी के जीव मिलते है। जब इस दुकान पर आप आयेंगे तो आपको अलग ही तरह का रोमांच पैदा होगा।
Fish-at-the-shopएक बार जीवों पर नजर जायेगी तो फिर हटेगी नहीं। जहां तमाम तरह की एक्वेरियम में मछलियां, कछुएं व रंगीन झींगे पानी में अटखेलियां करती नजर आती है। तो पिंजरों में देशी व विदेशी परिंदों की चहचहाहट गूंजती है। वहीं जमीन पर पहाड़ी व विलायती जीवों पर लोगों की निगाहे बरबस ही चली जायेंगी।
इस दुकान पर आपको अलग तरह के जीव अपनी अदाओं व जुदा रंगत से अपनी ओर खींचते नजर आयेंगे।
Rabit-at-the-shopसबसे पहले बात करते है पानी के जीवों की। यहां तरह-तरह के एक्वेरियम में रंगीन मछलियाए झींगा व कछुएं फरोख्त किये जाते है। दाने,एक्वेरियम ,पम्प सहित तमाम जरुरी चीजें यहां मिल जायेंगी। मछली सदैव से ही धार्मिक रूप में महत्वपूर्ण रही है। हर शुभ काम में मछली का अलग महत्व होता है। वास्तुशास्त्र के लिहाज से भी मछली महत्वपूर्ण होती है।
Fish-at-the-shop-1इसके पालने का क्रेज भी शहरवासियों पर सिर चढ़कर बोल रहा है। यहां पर गोल्ड फिश, ब्लैक मोर, एंजिल फिश, सुभांकी, पैरेट फिश, टाइगर शार्क,एलवीनों, फाइटर फिश, क्रोकाडाइल फिश, टारेटल, स्रिम्प, मिल्की कार्प, टिम्पल, सिल्वर फिश, मलीना, सहित तमाम किस्म की मछलियां मिलती है। इन्हें कोलकाता, मद्रास ,चेन्नई, हैदराबाद से मंगाया जाता है। साथ ही विदेशी नस्ल के कछुएं भी मिल जाते है। वहीं रंगीन झींगा तो बड़ा ही दिलचस्प लगता है। इसकी कीमत भी ज्यादा है।
Parrots-at-the-shopआसमान में उड़ने वालों परिंदों में यहां पहाड़ी देशी तोते तो मिलेंगे ही। वहीं विदेशी परिंदे भी मिलेंगे। जिनमें अफ्रीकन रेडरम पैरेट्स , टारकोजिन, हालैण्ड बजरी , इंग्लिश बजरी, जावा स्पैरो,अपलाइन पैरेट्स, पाइड काकाटील, अफ्रीकन लव बर्ड, रेडरम, फैंसी काकाटील क्रस्टर बजरी, देशी लाल मुनिया, फ्रिंच, कबूतर सहित तमाम परिंदे आसानी से मुहैय्या है। जिन्हें अन्य प्रदेशों से मंगाया जाता है। इनके खुराक के सामान भी मिल जाते है।
Fish-at-the-shop-2वहीं जमीन की बात करे तो यहां पर आपको देशी व विदेशी खरगोश मिलेंगे। वहीं विलायती चूहें भी आपको अपनी ओर खींचते नजर आयेंगे।
यह बात तो यकीन की जा सकती है कि इतनी दिलचस्प दुकान शायद ही आपने देखी होगी। इन जीवों के खरीददार भी बहुत है। अच्छी खासी तादाद में जीव उनके दाने, पिंजडे“ फरोख्त होते है। एक बात तो तय है कि इन जीवों को चाहने वाले बहुत है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *