फाइनल रिपोर्ट स्पेशल

सीपी चंद या जेपी यादव: कौन है असली, कौन है नकली के फेर में फस गया है सपा का एमएलसी चुनाव

Gorakhpur-MLC-election-2016हरिकेश सिंह (वरिष्ठ संवाददाता)
गोरखपुर: सपा में लगता है कि पार्टी में कई लोग पत्र जारी करने के लिए अधिकृत है। अगर ऐसा न होता तो सपा के एमएलसी चुनाव को लोग खिलवाड़ न मानते और बगावत करने वालों पर अब तक कार्रवाई की तलवार चल चुकी होती। ऐसे में चित भी मेरी पट भी मेरी की कहावत हो रही चरितार्थ।
बता दे कि समाजवादी पार्टी में एमएलसी चुनाव की घोषणा होते ही प्रदेश मुख्यालय से रोज ब रोज बयानबाज़ी और नए नए पत्र जारी किये जाने से अजीब कशमकश की स्थिति पैदा हो गयी है। फिलहाल स्थितियां तो यही दर्शाती है कि सपा मुख्यालय की नज़र में चुनाव कोई भी जीते वो होगा सपाई ही।
इसे हम नही कहते बल्कि पार्टी की कार्रवाई से जाना जा सकता है। देखिये एक नज़र बदलते घटनाक्रमों पर।
Letter-from-Arvind-Sinbgh-Gपहले पार्टी मुख्यालय से गोरखपुर महाराजगंज के लिए पुर्व मंत्री जय प्रकाश यादव को प्रत्याशिता का परचा दिया गया। बाद में 15 फरवरी को ही प्रो राम गोपाल यादव द्वारा चामुंडेश्वरी यानि सी पी चंद को अधिकृत करते हुए पत्र जारी किया गया और इसी पत्र को आधार बनाते हुए उन्होंने प्राधिकृत अधिकारी के यहाँ परचा दाखिल भी कर दिया।
इसके बाद के नाटकीय घटनाक्रम में हार्ट अटैक और पी जी आई में भर्ती होने की मीडिया की खबरों को संज्ञान में लेते हुए पार्टी के प्रमुख प्रवक्ता शिवपाल यादव द्वारा पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के आदेशों का हवाला देते हुए 18 फऱवरी को पुनः एक पत्र जारी कर जय प्रकाश यादव को अधिकृत प्रत्याशी घोषित कर दिया किन्तु मज़ेदार बात ये रही की उक्त पत्र आज तक चुनाव कार्यालय में नही जमाँ कराया गया। और जमा होता भी कैसे जब पत्र ही नामांकन वापसी समय बीतने के बाद ही जारी हुआ था। ऐसे में नियमतः सी पी चंद ही पार्टी के वैध प्रत्याशी है।
MLC-candidate-Jai-Prakash-Yहालाँकि 18 को शिवपाल यादव से पत्र मिलने के उपरांत 19 को गोरखपुर पहुचे जय प्रकाश यादव का सपाइयों ने गाजे बाजे और धूम धड़ाके के साथ स्वागत किया। चर्चा ये भी रही कि अब सी पी चंद उनके पक्ष में चुनाव प्रचार करेंगे। लेकिन ये अंदाज लगाने वाले शायद मुगालते में थे क्योंकि सी पी चंद अपनी वैधता को लेकर मैदान में डटे रहे। अब एक अन्य नाटकीय घटनाक्रम में पार्टी मुख्यालय से मंत्री अरविन्द सिंह गोप द्वारा 25 फ़रवरी को जारी पत्र पुरे प्रकरण को संदिग्ध बना दिया है।
इस पत्र में हवाला दिया गया है की अधिकृत प्रत्याशी जय प्रकाश को सपा प्रत्याशी मानते हुए उन्हें जिताया जाये। हालाँकि यह पत्र गोरखपुर महाराजगज के सपा जिलाध्यक्षो, महानगर अध्यक्षो व् सीपी चन्द को इस आशय से लिखा गया है की वे भी जय प्रकाश को समर्थन दें। किन्तु सीपी चन्द के न रहने पर उनके भाई ने पत्र लेने से इंकार कर दिया।
MLC-candidate-from-Gorakhpuसबसे बड़ी बात ये कि आज तक पार्टी में बगावत कर चुनाव लड़ने वालो को पार्टी से निष्काशन का दंड दिया जाता रहा है किन्तु सीपी चन्द के मामले में ये भी आजतक नही हुआ है।
वही दूसरी तरफ सीपी चन्द पर्चा दाखिल के बाद से ही मतदाताओ से मिलने का क्रम जारी रखे हुए है।साथ ही उनके साथ मंच पर पार्टी के प्रमुख चेहरों के साथ ही बसपा भाजपा और कांग्रेस के लोग भी चुनाव प्रचार में लगे नज़र आ रहे है।जबकि जय प्रकाश के साथ केवल सपा के चन्द चेहरे ही नज़र आते है। ऐसे में पार्टी मुख्यालय की सोच चित भी मेरी पट भी मेरी चरितार्थ होती नज़र आ रही है।

एमएलसी चुनाव 2016: अधिकृत प्रत्याशी होने के बाद ज़ोर शोर से चुनाव प्रचार में जुटे जय प्रकाश यादव, समाजवादियो में उत्साह

एमएलसी चुनाव: आत्महत्या की धमकी के बाद सपा ने जय प्रकाश यादव को घोषित किया पार्टी का अधिकृत प्रत्याशी

बार बार टिकट काटना और देना जय प्रकाश यादव का अपमान: बसपा विधायक जीएम सिंह

एमएलसी चुनाव 2016: निष्पक्ष एंव शांतिपूर्ण मतदान कराने को प्रेक्षक ने दिए अधिकारियों को निर्देश

 

LIKE US:

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *