फाइनल रिपोर्ट स्पेशल

गोरखपुर में 421 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी पकड़ी गयी; बिहार से स्कूटर से ढोया लाखों टन गेहूं

Image-for-representation-4गोरखपुर: वाणिज्य कर विभाग ने टैक्स चोरी के एक बड़े मामले का खुलासा किया है। विभाग के अधिकारियों ने खलीलाबाद व् कौड़ीराम में आटा, मेदा व् सूजी का निर्माण करने वाले गोयल एडविल प्राइवेट लिमिटेड फ्लोर मिल पर कार्यवाही कर 421 करोड़ रुपये की कर चोरी का मामला उजागर किया है।
वाणिज्य कर के अधिकारियों को यह सफलता आसानी से नहीं मिली है। इसके लिए उन्हें 9 दिनों तक कड़ी मेहनत करनी पड़ी है। अधिकारियों के 192 घंटे की चेकिंग के बाद 421 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी पकड़ी गयी है।
कैसे पकड़ी चोरी
खलीलाबाद व् कौड़ीराम में गोयल एडविल प्राइवेट लिमिटेड फ्लोर मिल पर 27 अगस्त से ही कुल 9 अधिकारियों की चार टीमे बनाकर फैक्ट्री के बाहर खड़ाकर दिया गया, और फैक्ट्री के अंदर व् बाहर निकलने वाले माल लदे वाहनों को चेक करना शुरू कर दिया और महज 192 घंटे में ही 421 करोड़ रुपये की खरीद बिक्री में अंतर पकड़ में आ गया। जाँच के दौरान ही यह भी खुलकर सामने आया, की बिहार से जिस ट्रक नम्बर से माल मगाना दिखाया गया था, वह एक स्कूटर का नंबर निकला। अब मामले की जाँच का जिम्मा कमिश्नर एसआईबी रेंज ए को दिया गया है।
वाणिज्यकर विभाग के एडिशनल कमिश्नर आर के कुरील के निर्देशन मे कुल नौ अधिकारियों कि चार टीमे बनाकर खलीलाबाद व कौडीराम मे गोयल एडविल प्रा लि के दोनों फलोर मीलों पर उनके खरीद व बिक्री के बिलोँ का कलेक्शन करवाने शुरू कर दिये। महज आठ दिन के बिलोँ के आधार पर जो आकड़े सामने आये उसे देखकर विभागीय अधिकारी आश्चर्य चकित हो गये।
श्री कुरील ने बताया,” इनके बिलो का कलेक्शन कराया गया है जिससे करोडो रूपये के टैक्स चोरी का मामला सामने आया है । बिजली विभाग से भी इनके पिछले वर्ष का डिटेल निकाला जा रहा है फिर ये कितना निर्माण करते है ये पता चल सकेगा।”
आर के कुरील ने बताया कि जांच के समय उक्त फर्म प्रतिदिन 182.58 लाख रुपये की गेंहू की खरीद कर रही है जब कि पिछले वर्ष इसी समय मे केवल 41.98 लाख रुपये प्रतिदिन खरीद दिखायी गयी है। इस तरह प्रति दिन 140.59 लाख की गलत ढंग से खरीद पिछले वर्ष की गयी है। इस पर विभागीय अधिकारी केवल 300 कार्य दिवस मानते हुये कुल 421.78 की गलत खरीद बिक्री मानते हुए कारवायी करने का मन बना रही है।
वही जांच में मे एक और बड़ा फर्जीवाडा भी पकड मे आया। फैक्ट्री मे बिहार से माल मगाने के लिये जिस ट्रक का नम्बर विभाग को उपलब्ध कराया गया था वह जांच के बाद स्कूटर का नम्बर निकला। जिसकी जाच के लिये ज्वाइंट कमिश्नर एस आई बी रेन्ज ए को बिहार भेजा गया है।
LIKE US:

fb

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *