आगलगी के मौसम में योगी के महानगर में फायर ब्रिगेड को मिला हाइड्रोलिक प्लेटफॉर्म

गोरखपुर: महानगर के गोरखनाथ क्षेत्र का जेमिनी अपार्टमेंट और उसमें लोग हर रोज की तरह अपनी दिनचर्या में मशगूल थे। दोपहर 12:30 बजे अचानक फायर अलार्म बज उठा। सिक्योरिटी के लिए तैनात कर्मचारियों ने फायर स्टेशन और 100 नंबर पर फोन कर आग लगने की सूचना दी।

फिर क्या, कुछ ही समय में दमकल गाड़ियों पर सवार फायर फाइटर पहुंच गए। रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हो गया। अपार्टमेंट के बाहर लोगों की भारी भीड़ जुट गई।अंदर फंसे लोगों को फायर फाइटर्स ने हाइड्रोलिक प्लेटफार्म वैन के सहारे लोगों को बाहर निकाला। धुआं की वजह से होश खो बैठे लोगों को स्ट्रेचर पर लिटाकर बाहर सुरक्षित निकाला गया।

दर असल ये सब हकीकत नही बल्कि फायर ब्रिगेड के मॉक ड्रिल का हिस्सा था । यह सब जिले में आगलगी के मौसम में लखनऊ से आये नये हाइड्रोलिक प्लेटफॉर्म वैन की कार्यकुशलता दिखाने को किया गया था।

जिले का फायर ब्रिगेड अब हाइड्रोलिक प्लेटफार्म वैन से लैस हो गया है। इससे जहां बहु- मंजिली इमारतों में आग लगने की स्थिति में उस पर काबू पाने में सहायक होगा। वहीं यह हाइड्रोलिक प्लेटफार्म तेल डिपो या केमिकल से लगी आग पर भी काबू करने में कारगर साबित होगा। क्योंकि इस हाइड्रोलिक प्लेटफार्म वैन के माध्यम से फोम का भी छिड़काव किया जा सकेगा।

बताते चलें कि खेत-खलिहान या मैदानी इलाकों में आग लगने पर साधारण फायर ब्रिगेड की गाड़ियों से अग्नि शमन दल के लिए आग बुझाना आसान होता है ,लेकिन बहुमंजिली इमारतों और तेल डिपो या केमिकल से आग लगने पर विभाग के अधिकारी -कर्मचारी असहाय हो जाते थे। जिले में इसकी जरूरत देखते हुए विभाग इसकी मांग पिछले कई वर्ष से करता आ रहा था।

इसको लेकर शासन स्तर पर कई पत्र लिखा गया, लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ।लेकिन योगी आदित्य नाथ के मुख्यमंत्री बनते ही फायर विभाग के अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने इसे गंभीरता से लेते हुए आनन-फानन में तीन करोड़ की लागत से हाइड्रोलिक प्लेटफार्म की खरीदारी कर उसे गोरखपुर भेज दिया गया।

अग्निशमन अधिकारी सत्येन्द्र पाण्डेय ने बताया कि इसके संचालन के लिए कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिलाया जा रहा है।

इन विशेषताओं से परिपूर्ण है हाइड्रोलिक प्लेटफार्म

इस हाइड्रोलिक प्लेटफार्म की क्षमता 35 मीटर यानी 106 फीट है। यह करीब 15 से 18 मंजिल ऊंची इमारत में आग लगने पर उसे बुझाने में कारगर साबित होगा। इसके अलावा इस हाइड्रोलिक प्लेटफार्म में पानी के साथ फोम का छिड़काव किया जा सकता है। जो तेल डिपो, पेट्रोल पम्प या केमिकल से लगी आग को बुझाने में सहायक होगा।