महराजगंज: उफनाई महाव ने मचाई तबाही, गांवों में घुसा पानी; ग्रामीणों ने लगाया जाम

महराजगंज: जनपद के ठूठीबारी स्थित महाव नाले ने सोमवार तड़के फिर तबाही मचाई। पानी का दबाव बढ़ते ही छितवनिया व हरखपुरा के सामने नाला टूट गया। जिसके चलते पानी कोहरगड्डी, छितवनिया, मल्लाह टोला के घरों में घुस गया। इससे आक्रोशित किसानों ने महाव पुल पर नौतनवा-ठूठीबारी मार्ग जाम कर दिया।

ग्रामीणों का कहना था कि पिछले बीस दिनों के भीतर महाव नाला पांचवीं बार टूटा है। जब तक महाव का स्थायी समाधान नहीं होता, वह जाम नहीं हटाएंगे। इस बीच मौके पर पहुंचे एसडीएम नौतनवा विक्रम सिंह किसानों से बातचीत कर काफी मान मनौव्वल किए। लेकिन किसान किसी सक्षम अधिकारी के बुलाने की मांग पर अड़े रहे।

यहां बता दें कि महाव नाले का खतरे का तल पांच फिट है। नेपाल के पहाड़ों पर लगातार बारिश से रविवार अचानक साढ़े सात फिट पानी आ गया। इससे सिंचाई विभाग के अभियंताओं के होश उड़ गए। सौ मजदूरों की आठ टीम गठित कर महाव नाले के किनारे तैनात कर दिया गया। दिन में दो फिट पानी कम हुआ। लेकिन रात में अचानक फिर से नेपाल से पानी आने से सोमवार सुबह महाव का किनारा कोहरगड्डी के टोला छितवनिया के सामने पचास फिट व देवघट्टी गांव हरखपुरा टोला के सामने 30 मीटर टूट गया।

इससे बाढ़ का पानी कोहरगड्डी, छिवनिया, मल्लाह टोला के घरों में घुस गया। देखते ही देखते हाहाकार मच गई। लोग सामान लेकर सुरक्षित ठिकानों की तरफ निकल गए। उधर, बाढ़ बचाव के नाम पर लाखों रुपये की खानापूर्ति का आरोप लगाते हुए खैरहवा दूबे, कोहरगड्डी, देवघट्टी गांवों के सैकड़ों लोग महाव पुल पर पहुंचे। नौतनवा-ठूठीबारी मार्ग पर जाम लगा दिया।

मौके पर एसडीएम नौतनवा विक्रम सिंह, सीओ सुरेश कुमार रवि पहुंच किसानों को समझाने में लगे रहे।लेकिन वे डीएम को मौके पर बुलाने के बाद ही जाम समाप्त करने की बात पर अड़े रहे। देर शाम तक किसानों ने प्रशासन के त्वरित कार्रवाई किए जाने आश्वासन पर जाम हटाया।