गोरखपुर-नरकटियागंज रेल प्रखंड: पनियहवा से गोण्डा तक जुड़ा है जहरखुरानी गिरोह का नेटवर्क

महराजगंज: गोरखपुर-नरकटियागंज रेल प्रखण्ड पर वर्षों से हो रही जहरखुरानी की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। विगत मई माह घटनाओं को अंजाम देने वाले गिरोह के दो सदस्यों के जी आर पी हत्थे के चढ़ने पर कई खुलासे सामने आये थे। जिनमें एक तरफ जहां इस गिरोह का नेटवर्क पनियहवा से गोण्डा तक जुड़ने की बात सामने आई थी। तो वहीं इस गिरोह द्वारा ट्रेनों में जहरखुरानी से लेकर छिनैती व लूट की घटनाओं को भी अंजाम दिए जाने का भी खुलासा हुआ था।

बता दें कि विगत 25 मई को दिन में गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों में नशीला पदार्थ सुंघाकर/खिलाकर यात्रियों को लूटने वाले जहरखुरान गिरोह के दो सदस्यों को राजकीय रेलवे पुलिस ने धर दबोचा था। जबकि मौके से उनका एक साथी फरार हो गया। जिनकी पहचान कोठीभार थानाक्षेत्र के सिसवा कस्बा नौका टोला निवासी अखिलेश चौधरी उर्फ गोलू तथा इस्तखार अंसारी उर्फ गोलू के रूप में हुई।

इस सदस्यों के पकड़े जाने के पूर्व जी आर पी पुलिस तब हरकत में आई जब 28 मार्च को सिसवा में पकड़े गए बदमाशों ने जननायक एक्सप्रेस में चलती ट्रेन से एक महिला का पर्स छीन लिया था। महिला के पर्स में नकदी, जेवर के साथ उसका मोबाइल भी था। महिला द्वारा जी आर पी गोरखपुर अभियोग पंजीकृत करने के बाद उक्त महिला का मोबाइल सर्विलांस पर लगाया गया था। जिसकी 25 मई को गोरखपुर स्टेशन पर लोकेशन मिलने पर जी आर पी थाना प्रभारी आनन्द सिंह व सर्विलांस प्रभारी राघवेन्द्र मिश्र की संयुक्त टीम ने दोनों सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया।

पर इस बीच इनका एक साथी जी आर पी की आंख में धूल झोंककर फरार होने में सफल हो गया। जी आर पी ने इन दो सदस्यों को गिरफ्तार कर सफलता तो पा लिया। किंतु माना जा रहा है कि पकड़े गए ये दो सदस्य तो सिर्फ इस गिरोह का छोटा सा हिस्सा हैं। जी आर पी के सूत्रों की मानें तो इस गिरोह का नेटवर्क पनियहवा से गोण्डा तक जुड़ा हुआ है। जिनके सदस्य गोण्डा से गोरखपुर और पनियहवा से गोरखपुर तक ट्रेनों में जहरखुरानी की घटनाओं को अंजाम देते हैं। गिरोह के इन सदस्यों को पकड़े जाने के बाद भी जहरखुरानी की घटनाएं नहीं रुक पाई हैं।

विगत माह जहरखुरानों ने खड्डा के युवक को अपना शिकार बनाकर उसे चलती ट्रेन से सिसवा और खड्डा स्टेशन के बीच फेंक दिया था। इतना ही नहीं विगत सप्ताह भी दिल्ली से वापस आ रहे महराजगंज जनपद अंतर्गत कोठीभार थानाक्षेत्र के सबयां निवासी एक युवक को भी जहरखुरानों ने सब कुछ लूटकर उसे बेहोशी की हालत में सिसवा स्टेशन पर फेंक दिया था।

जीआरपी और आरपीएफ के कथित ठेकेदार संदेह के घेरे में

सूत्रों की मानें तो गोरखपुर-नरकटियागंज रेल प्रखण्ड पर पनियहवा का एक युवक अवैध रूप से ट्रेनों में चलने वाले अवैध वेंडरों से जीआरपी के नाम पर अवैध वसूली करता है। जबकि आरपीएफ के नाम पर भी कप्तानगंज का एक युवक वेंडरों से अवैध वसूली करता है। जो जीआरपी और आरपीएफ को हर माह एक बंधी बंधाई रकम तो दिया ही करते हैं। साथ ही जहरखुरान गिरोह से मिलकर लूट के माल में अपनी हिस्सेदारी भी सुनिश्चित करते हैं।

अभी ताज़ा मामला सिसवा रेलवे स्टेशन का है जब आरपीएफ ने स्टेशन के बाहर गरीब ठेला लगाने वालों को अवैध वेंडर के रूप में चालान कर दिया था। जिसका कुछ लोगों ने विरोध करते हुए आरोप लगाया था कि आरपीएफ और जीआरपी अवैध वेंडरों से वसूली कराती है, और स्टेशन के बाहर ठेला लगाने वालों को नाहक परेशान करती है।