सिसवा में एच पी ग्रामीण गैस वितरक प्रोपराइटर की दिनदहाड़े हत्या, खेत में मिली लाश

महराजगंज: जनपद के कोठीभार थाना क्षेत्र के ग्राम सभा रजवल मदरहा निवासी सिसवा की पूर्व ब्लाक प्रमुख दुर्गावती देवी के 29 वर्षीय पुत्र अमित कुमार की रहस्यमय परिस्थितियों में रविवार को दिन में डेढ़ बजे लोहेपार नहर के बगल में चकरोड के किनारे लाश मिलने से क्षेत्र में सनसनी फ़ैल गई। परिजनों ने हत्या किए जाने की तहरीर कोठीभार पुलिस को दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया है।

कोठीभार थानाक्षेत्र के ग्रामसभा खेसरारी स्थित एचपी गैस एजेंसी के प्रोपराइटर तथा ईट-भठ्ठा मालिक अमित रविवार को दिन में अपने गैस एजेंसी पर थे। कि इसी दौरान 11 बजे के करीब अमित के सेलफोन पर किसी का फोन आया। और वह बात करने के उपरांत अपनी बाइक से अकेले ही गांव के चकरोड के रास्ते सिसवा-सोनबरसा बाईपास की ओर निकल गए। काफी देर तक अमित एजेंसी पर नहीं पहुंचे तो एजेंसी के लोगों ने अमित की खोजबीन शुरू कर दिया। डेढ़ बजे के करीब उनका शव नहर पटरी के बगल में स्थित खेत में मिला।

अमित के सिर व मुंह पर चोट के निशान मिले हैं। मुंह से खून निकल रहा था। हत्या के पीछे आशंका व्यक्त की जा रही है कि कुछ लोगों ने नाक मुंह दबा कर हत्या किए जाने के बाद दुर्घटना का रूप देने के लिए चेहरे पर चोट पहुंचा दिया होगा। अमित के गले से सोने की चेन गायब थी। जिस मार्ग पर शव मिला उस पर दुर्घटना की संभावना भी कम ही आंकी जा रही है।

अमित की माता दुर्गावती देवी वर्ष 2005 से 10 तक सिसवा की ब्लाक प्रमुख तथा वर्तमान में ग्रामसभा रजवल मदरहा की ग्राम प्रधान हैं। जबकि पिता अशोक प्रसाद लेखपाल हैं। उन्होंने बेटे की हत्या का आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी है। फिलहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। और अमित के मोबाइल को कब्जे में लेकर पुलिस ने जांच पड़ताल भी शुरू कर दी है।

हँसमुख होने के साथ जिम्मेदार था अमित

मृतक अमित अविवाहित व तीन भाइयों में बड़ा था। जिम्मेदार होने के साथ वह हंसमुख स्वभाव का था। गैस एजेंसी पर ग्राहकों को संतुष्ट करने के साथ ही वह अपने वर्करों का ख्याल करता था। अमित के मौत से पूरा गांव सदमे में डूबा है।

मोबाइल कॉल की डिटेल खोलेगी हत्या का रहस्य

इस पूरे प्रकरण में माना जा रहा है कि अमित के मोबाइल की कॉल डिटेल उसकी हत्या के रहस्य से पर्दा उठा सकती है। सबके ज़हन में एक ही सवाल है कि आखिर वह कौन था जिसके फोन करने पर अमित अकेले ही बाइक से एजेंसी से निकल गया। और काफी देर बाद उसकी लाश मिली। शव की परिस्थितियों से अंदाज़ा लगाया जा रहा है कि अमित की हत्या को अंजाम देने वाले हत्यारे दो से तीन की संख्या में रहे होंगे।

Martia Jewels
Martia Jewels
Martia Jewels