आईजी का अभिनव प्रयोग: होगा शहर अतिक्रमण मुक्त, अधिकारी-कर्मचारी गोद ले रहे जामयुक्त चौराहा-तिराहा

गोरखपुर: बरसों से महानगर की प्रमुख समस्या जाम का कुछ हद तक निराकरण जोन के आईजी मोहित अग्रवाल ने ढूंढ निकाला है।इसके किये उन्होंने अपने स्तर से सभी अधीनस्थों को महानगर,कस्बों के जाम वाले एक एक तिराहे-चौराहे को गोद लेकर उसपर निगरानी करने का निर्देश दिया है।जिसका अनुपालन होते महानगर में देखा भी जा रहा है।

बता दें कि गोरखपुर के सांसद रहे योगी आदित्यनाथ के प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनकी प्रमुख प्राथमिकता में शामिल गोरखपुर की ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने के लिए आईजी ने कोना हटाओ अभियान की शुरुआत की है। अब अफसर शहर के एक-एक चौराहों को गोद लें रहे हैं।बड़े चौराहे अफसरों के जिम्मे होंगे तो छोटे चौकी इंचार्जों के।

इन चौराहों पर जाम लगने पर वहां के लोग सम्बंधित अफसर या फिर इंचार्ज को फोन कर जानकारी दें सकेंगे।महानगर में बतौर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रथम आगमन पर शहर में लगने वाले जाम को खत्म कर ट्रैफिक व्यवस्था ठीक करने का निर्देश दिया था। इसी क्रम में आईजी ने पिछले दिनों ट्रैफिक विभाग से प्रस्ताव मांगा था।

जिसे देखते हुए शहर की बढ़ती आबादी और ट्रैफिक लोड देखते हुए शहर में फ्लाइओवर के साथ पांच ओवरब्रिज और अण्डर पास और कुछ सड़कों के चौड़ीकरण का प्रस्ताव दिया गया था। जिसे उन्होंने प्रशासन के जरिये शासन को भेजवा दिया था। प्रस्ताव पर अमलीजामा पहनाया जाए, इससे पहले चौराहों से अतिक्रमण हटाने के लिए आईजी ने कोना हटाओ अभियान की शुरुआत की है।

इसमें सभी अफसरों की भागीदारी हो इसके लिए उन्होंने खुद एक चौराहा गोद लिया तथा अन्य अफसरों, थानेदारों और चौकी इंचार्जों को एक-एक चौराहा गोद लेने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि जो अफसर चौराहा गोद लेंगे वह अपनी विजिटिंग कार्ड छपवा कर चौराहे के लोगों को बांटेंगे। जिससे जाम लगने पर वहां के लोग अफसरों को सीधे फोन कर सकेंगे।

Martia Jewels
Martia Jewels
Martia Jewels