गोरखपुर

गोरखपुर महोत्सव के आखिरी दिन सुनिधि और जावेद के गीतों पर झूमी जनता

Gorakhpur-Mahotsavगोरखपुर: गोरखपुर महोत्सव के आखिरी दिन बॉलीवुड नाईट में सिंगर सुनिधि चौहान और जावेद अली ने अपने सुरमई अंदाज़ से लोगो का मन मोह लिया। दोनों बॉलीवुड सिंगर्स ने कंपकपाती शर्दी में भी युवाओं के अंदर जोश भर कर उन्हें अपने ताल पर थिरकने को मजबूर कर दिया।
कार्यक्रम यूं तो सात बजे से होना था पर 5 बजे से ही विश्वविद्यालय की ओर हजारों कदम महोत्सव के आखिरी दिन सबसे खास होने की तस्दीक कर रहे थे।

महोत्सव में आयोजित बालीवुड नाइट में जादुई आवाज की मल्लिका सुनिधि चौहान और अपनी रूमानियत भरी आवाज के लिए पहचाने जाने वाले गायक जावेद अली ने लोगों को जमकर झुमाया।
सुनिधि और जावेद के सुरों की गर्मी ने मैदान पर पसरी गलन को जैसे भगा दिया। शाम करीब पौने आठ बजे जैसे ही जावेद अली मंच पर आए तो मानो उनको करीब से देखने के लिए आसमान से कोहरा भी टपक पड़ा। युवा जोश ने पूरी शिद्दत के साथ अपने इस अजीज फनकार को न सिर्फ सुना, बल्कि उनके साथ सुर भी मिलाए। जावेद ने मंच पर आते ही पहले पूरे माहौल को रोमांटिक कर दिया ।
Javed-Ali-at-Gorakhpur-Mahoशुरुआत फिल्म जोधा-अकबर के लोकप्रिय गीत ‘कहने को जश्न बहार है’ से की। उसके बाद गजनी फिल्म से तू मेरी अधूरी प्यास-प्यास.., तू जो मिला.,ख्वाब तू ही हकीकत ख्वाब तू., इशकजादे.. जैसे एक के बाद एक सुपरहिट लोकप्रिय गीतों की झड़ी लग गई। बेहतरीन वालीवुड गीतों से रूमानी हो चली महोत्सव की शाम में फिर जावेद अली ने सूफियान रंगत घोल दिया। रॉकस्टार फिल्म से कुन फाया कुन, जोधा अकबर से ख्वाजा मेरे ख्वाजा.. दिल्ली से मौला मेरे मौला..गीतों से माहौल को अलग रंग दिया।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *