गोरखपुर

जिला पंचायत अद्यक्ष चुनाव के दिन गिरफ्तार सदस्य पवन सिंह रिहा

Pawan-Singhगोरखपुर: जिला पंचायत अद्यक्ष चुनाव के दिन गिरफ्तार जिला पंचायत सदस्य पवन सिंह आज जेल से रिहा हो गया। रिहा होने के तुरंत बाद उत्तर प्रदेश सरकार को चुनौती देते हुए पवन सिंह ने अपने फेसबुक वाल पर लिखा की ना तो वो पहले सरकार के सामने झुके नाही आगे झुकेंगे।
उन्होंने कहा की उनके ऊपर किए गए ज़ुल्मो का हिसाब जनता 2017 के विधान सभा चुनाव में लेगी।
गौरतलब है की पुलिस ने विगत बृहस्पतिवार को जिला पंचायत अद्यक्ष चुनाव में वोट डालने आए दो पंचायत सदस्यों को सत्ता का विरोध करने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया था। पवन सिंह उनमे से एक था।
Pawan-singh-arrestedपवन सिंह वार्ड नंबर 36 से जिला पंचायत सदस्य है। हत्या के मामले में अभियुक्त पवन सिंह जब मतदान में अंतिम वोट डालने पहुचे तो उनके साथ जमकर लात घूसे चले थे जिसे पुलिस ने हल्का बाल प्रयोग कर भीड़ को हटाया था ।
बता दे की लगभग ब्रहस्पतिवार पौने तीन बजे अंतिम वोट 73 वे वार्ड संख्या 36 से निर्वाचित सदस्य पवन सिंह पुलिस और सपाइयो को छकाते हुए निर्दल प्रत्यासी अजय बहादुर के पक्ष में वोट डालने पहुचे। गेट पर लगे पुलिस बाल को ज्योही अपना परिचय दिया तो पीछे खड़े सपाइयों ने उन्हें खीच लिया और लात घूंसों से पिटाई करने लगे।
Image-for-representationयह देख पुलिस वालों ने किसी तरह से उनको छुड़ाकर कलेक्ट्रेट पहुचाया किन्तु छीना झपटी के दौरान कई पुलिस वालो की वर्दी खराब हो गयी। जिससे नाराज पुलिस बल ने हल्का बल प्रयोग कर जमा भीड़ को हटाया। पुलिस ने पवन सिंह को गिरफ्तार कर लिया जिस से वह वोट नहीं दाल सके।
बताया जा रहा है कि पवन सिंह कुछ मामलो में वांछित है जिसको पुलिस काफी दिनों से तलाश रही थी। घटना के विरोध में निर्दल प्रत्याशी के भाई व भाजपा विधायक विजय बहादुर यादव प्रशासन पर धांधली कराये जाने का प्रयास का आरोप लगाते हुए धरने पर बैठ गए। विधायक ने कहा सपा के लोगो ने पुलिस अभीरछा में पवन सिंह को पीटा। इसकी सारी जिम्मेदारी डीएम और एसएसपी की है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *