गोरखपुर

जिला पंचायत अध्य्क्ष चुनाव: महँगा पड़ा सत्ता का विरोध, मतदान करते ही हुए गिरफ्तार

Arrested-Pawan-Singhगोरखपुर: कहते है राजनीति में कब दोस्त दुश्मन बन जाए और दुश्मनी निभाने के लिए किस हद तक उतर जाए कहा नहीं जा सकता। कुछ इसी तर्ज पर जिले की पुलिस ने बृहस्पतिवार को वोट डालने आए दो पंचायत सदस्यों को सत्ता का विरोध करने के जुर्म में गिरफ्तार कर कर्तव्यों की इतिश्री कर ली।
बात करें उन सदस्यों की तो पहली घटना में खोराबार थाने में हत्या के मामले में नामजद अभियुक्त वार्ड नंबर दो से सपा के जिला पंचायत सदस्य जितेंद्र सिंह को आज कलेक्ट्रेट में वोट डालकार निकलते ही खोराबार पुलिस ने किया गिरफ्तार
जितेंद्र के बड़े भाई सपा के बागी जिनको पार्टी से निकाल दिया गया कुँवर प्रताप सिंह है जो भूख हड़ताल पर बेठे थे। पिछले दिनों कुसम्ही बाजार के माडापार में आशनाई के चक्कर में एक युवक राजदेव की हत्या कर लाश को लटका दिया गया था। जिससे की मामला आत्महत्या का लगे।
इस मामले में खोराबार थाने में राजदेव की पत्नी मनीता, मनीता का प्रेमी बैधनाथ उर्फ़ बखेड़ू, बखेडू के पिता जीतन और जितेंद्र सिंह के खिलाफ मृतक राजदेव की बहन नंदिनी के तहरीर पर 12 नवम्बर को मुकदमा दर्ज हुआ था। जिसमे मनीता और बाकी दोनों गिरफ्तार हो चुके थे। जितेंद्र फरार चल रहे थे। राजदेव की हत्या 11 नवम्बर को देर रात की गयी थी और 12 की सुबह लाश लटकती मिली थी।
कुछ इसी तरह से दुसरे सदस्य वार्ड नंबर 36 से जीते पवन सिंह की भी रही। जो हत्या के मामले में अभियुक्त तो था किन्तु आज तक सत्ता की मेहरबानी से बचा हुआ था और जैसे ही उसने सत्ता के विपक्षी का दामन थामा । सबकी नज़रो में दोषी हो गया। आज वोटिंग करने आये पवन सिंह को पुलिस के सामने ही पीटा जाता रहा और बाद में उसे गिरफ्तार दिखा कर वोट डालने से वंचित कर दिया गया।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *