गोरखपुर

मकर संक्रांति के एक दिन पहले पचास हज़ार लोगों ने चढ़ाई गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी 

Gorakhnath-Temple-2गोरखपुर: गोरक्षनाथ बाबा को आज मकर संक्रांति के एक दिन पहले ही खिचड़ी चढ़ाई गई और इस मौके पर आज तक़रीबन 50 हजार से ऊपर की संख्या में श्रधालुओ का शैलाब देखने को मिला। दूर दराज से आइये श्रद्धालुओ ने आज यहाँ खिचड़ी चढ़ाई।
बता दें की गोरक्षनाथ मंदिर में कल यानी 15 जनवरी को बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाई जायेगी, लेकिन दूर दराज से आने वाले को लोगो को ये सहूलियत दी गई थी की वो आज ही से खिचड़ी चढ़ा सके और इसको लेकर आज तक़रीबन 50 हजार से ऊपर की सख्या में श्रद्धालु खिचड़ी चढ़ाये|
इस मौके पर सुरक्षा के पुक्ता इंतजाम किये गए थे और मंदिर को सीसीटीवी कैमरे और ड्रोन कैमरे की मदद से पैनी नंजर बनाई गई है| मंदिर में श्रद्धालुओं की सहायता के लिए लगे 1500 स्वयं सेवक व् पुलिसकर्मी भी खिचड़ी चढाने में लोगो की मदद कर रहे थे ।
Gorakhnath-Temple-3
पठानकोट के हादसे के बाद पूरे उत्तर प्रदेश में हाई एलर्ट घोषित कर दिया गया है और इसके मद्देनज़र गोरखनाथ मंदिर में आयोजित होने वाले खिचड़ी मेले पर सुरक्षा एजेंसियों ने पैनी नजर बनाई है। हर वर्ष गोरखपुर में लगने वाले खिचड़ी के मेले को लेकर लाखो श्रद्धालु गोरखनाथ मंदिर में आते है।
ये श्रद्धालु महराजगंज, कुशीनगर, देवरिया, बस्ती, संतकबीर नगर, बलिया, बढ़नी और दिल्ली आदि जगहों से श्रद्धालु आते है और इनकी सुरक्षा के लिए मंदिर प्रशासन के साथ-साथ गोरखपुर प्रशासन ने भी पूरी तैयारी कर ली है |
मकर संक्रांति मेले के प्रबंधक व गोरक्षपीठाधीश्वर सांसद महंत आदित्यनाथ ने कहा कि गोरखपुर में लगने वाले खिचड़ी मेले को लेकर प्रशासन ने पूरी ताकत झोक दी है और उसको लेकर मंदिर प्रशासन के साथ साथ 1500 स्वयं सेवको ने कमान संभाल ली है।
उन्होंने कहा की श्रद्धालुओं की सुरक्षा और सुविधा सर्वोपरि है। इसमें किसी तरह की कोताही नहीं होगी। मंदिर के साथ प्रशासन, पुलिस, नगर निगम, बिजली और संबंधित विभाग पूर्वी उत्तर प्रदेश के इस सबसे बड़े धार्मिक एवं सांस्कृतिक आयोजन को सफल बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे। मेले में पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और नेपाल के साथ देश भर से लाखों श्रद्धालु आते हैं। यह खुद को साबित करने का मौका होता है। लिहाजा सबका सहयोग अपेक्षित है।
Gorakhnath-Temple-1
मंदिर परिसर और आस पास के इलाको में गैर जनपदों से भी फ़ोर्स मंगाकर तैनात कर दिया गया है। पूरा मेला परिसर सीसीटीवी की जद में है साथ ही मेले में चारों किनारों पर लगे वाचिंग टॉवरों पर हाई ज़ूम चार डोम कैमरे लगाए गए है जो दो किलोमीटर के दायरे में आने वाली हर चीज को अपने दायरे में ले लेंगे।साथ ही प्रशासन ने सुरक्षा की दृष्टी से दो ड्रोन कैमरे भी ट्रायल करने का निर्णय लिया है।
देश में बढ़ी आतंकी घटनाओं के बाद आतंकियों की निगाह में महत्वपूर्ण स्थान बना चुके पूर्वांचल के इस पीठ की सुरक्षा को लेकर तत्पर जिले के एस एस पी लव कुमार का कहना है कि इस वर्ष मकर संक्रांति 15 जनवरी को है पर 14 जनवरी से ही सुदूर क्षेत्रों से श्रद्धालु आने लगते हैं। इसके मद्देनजर 13 जनवरी को दोपहर बाद से आने वाले श्रद्धालुओं के रुकने के लिए मंदिर परिसर में निःशुल्क व्यवस्था होगी ।
एस एस पी ने कहा की सुरक्षा के लिए जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। वाच टावरों पर तैनात सशस्त्र बल मेले में आने-जाने वालों की हर गतिविधि पर नजर रखेंगे। मंदिर के करीब 1500 स्वंयसेवक हर समय व्यवस्था में मदद को तत्पर है |
Security-at-Gorakhnath-temp

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *