गोरखपुर

विंध्यवासनी नगर में पार्किंग विवाद पर चली गोली, मृतक इंजीनियर दंपत्ति की पार्किंग पर थी निगाह

Man-injured-in-firing-in-Goगोरखपुर: कोतवाली थानान्तर्गत विंध्यवासनी नगर मोहल्ले के पार्क में गाड़ी खड़ा करने से मना करने पर बड़ा विवाद हो गया। नगर निगम के ठेकेदार व उसके भाई ने मोहल्ले वालो पर 12 राउंड फायरिंग कर दहशत फैला दी। फायरिंग की इस घटना में मोहल्ले में रहने वाले बीमाकर्मी आलोक श्रीवास्तव के पैर में गोली लग गई।
मोहल्ले वालों का आरोप है की ठेकेदार जीतेन्द्र सिंह और उसका सगा भाई सुजीत फायरिंग कर मौके से फरार हो गए। जीतेन्द्र सिंह का एक मकान मियांबाजार में पड़ता है और उन्होंने अपने घर का एक रास्ता विंध्यवासनी नगर मोहल्ले की ओर खोल रखा है। यही स्थित एक पार्क में जीतेन्द्र सिंह अपनी कार खड़ी करते है।
जबसे इंजीनियर दंपत्ति संजय श्रीवास्तव व उनकी पत्नी तूलिका श्रीवास्तव के घर में लूटपाट के बाद हत्या हुई तब से मोहल्ले वाले इस रास्ते को बन्द करना चाह रहे है। जबकि इसी स्थान पर काबिज होने की मंशा रखने वाले उक्त ठेकेदार इधर से ही गाडी निकलते है।
मोहल्ले के लोग जीतेन्द्र से यह रास्ता बन्द करने के लिए कई बार पहले भी कह चुके है। लेकिन जीतेन्द्र सिंह ने किसी की भी सुनने से इनकार कर दिया था, कल रात जब जीतेन्द्र सिंह अपनी कार पार्क में खड़ी कर रहे थे तो मोहल्ले वालो ने इसका विरोध किया। इससे नाराज जीतेन्द्र ने अपने भाई व अन्य लोगो के साथ मोहल्ले वालो से गाली गलौज करते हुए फायरिंग कर दी।
जिससे गुस्साए मोहल्ले वालों ने ठेकेदार की कार में तोड़फोड़ कर दी। हांलाकि पुलिस इस मामले में ठेकेदार व उसके भाई समेत तीन अज्ञात पर मुकदमा कायम कर लिया है, लेकिन अभी तक ये पुलिस की पकड़ से दूर है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *