गोरखपुर

समीक्षा बैठक में खामियों पर बरसे विशेष सचिव राजस्व

Secretary-during-the-meetinगोरखपुर: कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में विशेष सचिव राजस्व जे पी सगर ने राजस्व से संबंधित प्रत्येक बिन्दुओं की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान 229बी के लम्बे समय से लंबित रहने, गोला तहसील में नामांकन का मुकदमा वर्ष 1999 से चलते रहने तथा 31 दिसम्बर तक प्रगति रिपोर्ट में अन्तर पाये जाने पर असंतोष व्यक्त किया।
श्री सगर ने कहा कि केवल रस्म अदायगी से जनता को कोई लाभ नही मिलेगा। उन्होंने जिलाधिकारी वित्त से समय समय पर मुआयना करने का निर्देश दिया।
चौरी चौरा तहसील में बैनामा के एक मामले में वर्ष 2014 से खारिज दाखिल के एक मुकदमे को लटकाये रखने पर आपत्ति की, जबकि बैनामा करने वाले एंव कराने वाले की कोई आपत्ति नही थी जिसके शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिये।
राजस्व वसूली हेतु जारी आर सी में वसूली न होने की स्थिति में गारंटर को छोड़ मुख्य ऋणी व्यक्ति के विरूद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिये। भूमिहीन परिवार के बीमा की स्थिति भी संतोषजनक नही पायी गयी।
विगत दिसम्बर माह की प्रगति रिपोर्ट के आकड़े में अन्तर पाये जाने पर एडीएम वित्त को निर्देश दिया कि जिलाधिकारी की ओर से सभी तहसीलदार को सचेत करते हुए पत्र जारी करा दें। कोर्ट चलाने संबंधी प्रशिक्षण प्राप्त एडीएम वित्त से कहा कि सभी तहसील में कोर्ट चलाने की प्रक्रिया की जानकारी दें दे।
विशेष सचिव स्टाम्प के समाधान, तहसील दिवस के निस्तारित मामले, जमीन बटवारे संबंधी व अन्य राजस्व संबंधी बिन्दुओं की समीक्षा। इससे पूर्व विशेष सचिव राजस्व ने कलेक्ट्रेट के संयुक्त कार्यालय, अभिलेखागार सहित विभिन्न पटलों के कार्यों को देखा और आवश्यक निर्देश दिये।
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वित्त एंव राजस्व, उप जिलाधिकारी गण, तहसीलदार, नायब तहसीलदार एंव विभिन्न अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *