गोरखपुर

जल्द ही पूर्वोत्तर रेलवे से चलने वाली सभी ट्रेनें होंगी इलेक्ट्रिक पावर युक्त; 30 ट्रेनों का हो गया है चयन

image-for-representation-1गोरखपुर: पूर्वोत्तर रेलवे के मेन लाइन छपरा-गोरखपुर-बाराबंकी का विद्युतीकरण पूरा होते ही जल्द ही इस रूट से गुजरने वाली सारी ट्रेनें इलेक्ट्रिक पावर इंजन से फर्राटा भरने लगेंगी। इसके लिए बस इंतज़ार है तो केवल इलेक्ट्रिक पॉवर लोको शेड का।
पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन द्वारा गोरखपुर छपरा, गोरखपुर बाराबंकी मेन रुट का इलेक्ट्रिफिकेशन होने के बाद अपने रेल क्षेत्र में ट्रेनों को और गतिशील बनाने के लिए काफी त्वरित गति से काम किया जा रहा है। रेल प्रशासन द्वारा इस रूट पर चलने वाली लगभग 30 ट्रेनों को इलेक्ट्रिक पॉवर से चलाने की योजना बनायी गयी है। फिलहाल अभी इस कड़ी में केवल मौर्य, वैशाली, बाघ, आम्रपाली, ग्वालियर-बरौनी और बिहार संपर्क क्रांति सहित कुल 7 गाड़ियां ही इलेक्ट्रिक इंजन से चल रही हैं।
इलेक्ट्रिक पावर से ट्रेन चलाने के लिए अहम रेलवे स्टेशन के सभी प्लेटफार्म पर भी विद्युतीकरण लगभग पूरा हो चुका है, हालांकि अभी छह नंबर पर कुछ कार्य शेष है। जो शीघ्र ही पूर्ण हो जायेगा। उसके पूरा होते ही गोरखपुर जंक्शन के सभी 10 प्लेटफार्म से इलेक्ट्रिक गाड़ियां चलाई जा सकेंगी। रेलवे प्रशासन ने प्रस्तावित सभी ट्रेनों को 30 सितंबर तक इलेक्ट्रिक इंजन से चलाने की योजना बनाई है।
इलेक्ट्रिक लोको शेड न होने से बनकर चलने वाली गाड़ियों में अभी इलेक्ट्रिक इंजन नहीं लगाया जा सकेगा। शेड बनने के बाद ही बनकर चलने वाली ट्रेनों में इलेक्ट्रिक इंजन लगाया जाएगा। ऐसे में अभी गोरखपुर से होकर चलने वाली ट्रेनों में ही इलेक्ट्रिक इंजन लगाए जा रहे हैं। इलेक्ट्रिक शेड निर्माण के लिए भी रेलवे प्रशासन ने जोरशोर से तैयारी शुरू कर दी है।
शेड के बाउंड्रीवाल और सड़क निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। जल्द निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। शेड बन जाने के बाद सुपरफास्ट गोरखधाम एक्सप्रेस सहित पूर्वोत्तर रेलवे की सभी गाड़ियां इलेक्ट्रिक हो जाएंगी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *