गोरखपुर

घाटी में हिंसा के बाद बढ़ी जनपद के अमरनाथ यात्रियों की मुश्किलें; योगी ने गृहमंत्री से की बात

Image-for-representation-3गोरखपुर: कश्मीर घाटी में हुई हिंसा के बाद अमरनाथ यात्रा रोके जाने से यात्रियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। कई यात्री जरूरी सुविधाओं से वंचित हो गए हैं। इनमें गोरखपुर के यात्री भी शामिल हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से यात्रियों की सुविधा के लिए कुछ इंतजाम किए गए हैं, लेकिन वो नाकाफी साबित हो रहे हैं।
वहीँ गोरक्षपीठाधीश्वर एवं गोरखपुर के सांसद महन्त योगी आदित्यनाथ ने इस मसले पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बातचीत की। योगी ने गृह मंत्री को अवगत कराया कि गोरखपुर समेत पूर्वी उत्तर प्रदेश और प्रदेश से भी काफी बड़ी संख्या में श्रद्धालुजन और अन्य यात्री अमरनाथ यात्रा में गये हुए हैं।
गोरखपुर से महासेवादार चैरिटेबल ट्रस्ट और शिव शक्ति सेवा मंडल की ओर से 38 यात्रियों का जत्था अमरनाथ के लिए कुछ दिन पहले रवाना हुआ था। शनिवार को जत्था जब बालटाल पहुंचा तभी घाटी के हालात बिगड़ गए।
हिजबुल कमांडर आतंकी बुरहान के मारे जाने के विरोध में शनिवार को न सिर्फ पुलिस पर बल्कि अमरनाथ यात्रियों पर भी पत्थरबाजी की गई। इस वजह से घाटी में कर्फ्यू लगने के बाद अमरनाथ यात्रा रोक दी गई। गोरखपुर से गया जत्था बालटाल में फंसा हुआ है।
यात्रा प्रभारी किशोरी जायसवाल ने बताया कि शनिवार सुबह से 38 अमरनाथ यात्रियों का जत्था बालटाल में फंसा है। खाने-पीने का सामान तो उपलब्ध हो जा रहा है, लेकिन टेंट की कमी की वजह से परेशानी झेलनी पड़ रही है। शनिवार की रात खुले में बितानी पड़ी।
दिनेश कुमार पंकज ने बताया कि इंटरनेट सेवा बंद होने से लोगों से संपर्क करने में भी मुश्किलें आ रही हैं। किसी तरह घर वाले फोन कर पूरे दिन अपने परिचितों की सुध लेते रहे।
आदित्यनाथ ने कहा की अचानक कश्मीर घाटी की स्थिति खराब होने तथा जगह-जगह हिंसा भड़कने के कारण हिन्दू श्रद्धालुओं की सुरक्षा पर गम्भीर खतरा पैदा हो गया है। पूरे देश में कश्मीर की स्थिति पर चिन्ता व्यक्त की जा रही है।
उन्होंने कहा की भारत सरकार की आतंकवाद के प्रति रणनीति सर्वथा उचित है और इस आतंकवाद से निपटने के लिए ‘जीरो टाॅलरेंस की नीति’ स्वागत योग्य है। आतंकवाद के खिलाफ भारत सरकार की लड़ाई में पूरा देश एक है। लेकिन नागरिकों की सुरक्षा भी सरकार का दायित्व होना चाहिए।
योगी ने गृहमंत्री को अवगत कराया कि गोरखपुर के कुछ श्रद्धालु बालताल में फंसे हुए हैं। उन्हें वहाँ पर सुरक्षा प्रदान किया जाय और सकुशल वापसी की व्यवस्था भी किया जाय।
केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने योगी आदित्यनाथ को आश्वस्त किया कि सरकार आतंकवाद को पूरी तरह नेस्तनाबूंद करेगी। साथ ही नागरिकों की सुरक्षा भी सुनिश्चित करेगी।
हमारा फेसबुक पेज LIKE करना न भूले:
fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *