गोरखपुर

JNU विवाद: अंबेडकर सभा, भाजयुमो गुटों में तीखी झड़प, एक दुसरे के झंडे-बैनर फाड़े

clashगोरखपुर: जेएनयू मामले पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है| आये दिन कभी जेएनयु के विरोध में तो कभी उसके पक्ष में विरोध प्रदर्शन का दौर जारी है| गोरखपुर में भी हर दिन कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला रहा है।

अंबेडकर सभा के छात्रों ने भारतीय जनता युवा मोर्चा के हस्ताक्षर अभियान में झडप कर विरोध करना तो आज जिला अधिकारी कार्यालय पर JNU मामले में पकड़े गए छात्र अखिलेश के पक्ष में प्रदर्शन कर रहे राष्टीय जन वादी पार्टी के बैनर को भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओ ने फाड़ दिया, उसके बाद इन लोगो ने अपने बाकी साथियो को वहा बुला लिया, तब तक भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओ की संख्या कम हो चुकी थी, फिर अंबेडकर सभा के कार्यकर्ता और कुछ लोग जिला अधिकारी कार्यालय पर पहुच कर जम कर हंगामा किया।

clash1

दिल्ली का जेएनयू मुद्दा इन दिनों हर आम ओ खास के जेहन में समा गया है जहा नेशनल लेवल पर विरोधी पार्टियां इस मुद्दे को लेकर बराबर बयानबाजी कर रही है वहीँ गोरखपुर भी इससे अछूता नही है। आज इसी मुद्दे पर देशद्रोहियो को फांसी की मांग कर भुतपूर्व सैनिक भी मैदान में आ गए है। जिसे लेकर अम्बेडकरवादी छात्र सभा और पुर्व सैनिको में तीखी झड़प हो गयी।

महानगर के कचहरी चौराहे पर आज देशद्रोहियो को फांसी की मांग करने वाले भुतपूर्व सैनिको ने कैप्टन ओमप्रकाश यादव के नेतृत्व में प्रदर्शन कर कार्रवाई की मांग करते हुए डी एम् को ज्ञापन सौंपा।

clash3

उन्होंने कहा कि हम सभी पुर्व सैनिक एक शीर्षस्थ विश्वविद्यालय में इस तरह खुलेआम देश के गद्दारो के पक्ष में नारेबाजी से मर्माहत है।हम मांग करते है कि ऐसे राष्ट्रविरोधी तत्वों को पनपने से पहले ही समूल नाश कर देना चाहिए।जबकि इसी घटना को लेकर विरोध प्रदर्शित कर रहे अम्बेडकरवादी छात्र सभा  प्रदेश अध्यक्ष अमर सिंह पासवान  और कार्यकर्ताओ गोरखपुर विश्वविद्यालय कुलपति का पुतला फूंका।और बीजेपी और आरएसएस जो दलितों के साथ दूर ब्यवहार कर रही है वो बहुत सर्मनाक है।

अमर पासवान ने कहा की कन्हइया को फ़साने में बीजेपी और आरएसएस का बहुत बड़ा हाथ है।और अमर ने कहा गोरखपुर कुलपति बीजेपी और आरएसएस के एजेंट हो गए है। इनको निष्कासित किया जाये। अम्बेडकरवादी छात्र सभा के साथ आप के नेता प्रबल प्रताप शाही ने भी समर्थन किया और अन्य पार्टीयो ने समर्थन दिया। इसी दौरान दोनों पक्षो में एक दूसरे का झंडा बैनर फाड़ने को लेकर तीखी झड़प हो गयी।

clash4

भाजयुमो के हस्ताक्षर अभियान में शामिल हुए गोरखपुर विश्वविद्यालय कुलपति प्रो अशोक कुमार

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *