गोरखपुर

श्रेष्ठ वृत्ति का व्रत धारण करना ही शिवरात्रि मनाना है

ईश्वरीय परिवार मे मनाया गया शिवरात्रि

अरविंद श्रीवास्तव, गोरखपुर: शिव बाबा निराकार हैं, यह हम सब ब्रह्मा कुमार व कुमारियाँ जानते हैं. भक्ति मार्ग मे रह कर लोग बाग शिव बाबा की शादी रचाते हैं, जबकि सत्य यह है कि 83 वर्ष पूर्व इस कलियुग की अंतिम बेला मे शिव बाबा ने बाबा लेखराज के शरीर के माध्यम से लोगो मे प्रेरणा भरी कि हर आत्मा मेरी संतान और मेरा प्रिय है.

विनाश के बाद ही इस सृष्टि का कायाकल्प होगा और कलियुग के बाद सतयुग आने वाला है. इसी के निमित्त अब सभी आत्माओं को परमधाम चलना होगा जहाँ से सतयुग की यात्रा शुरू होगी. मनुष्य के शुभ वृत्ति द्वारा जो श्रेष्ठ बोल और कर्म होते हैं उनसे ही विश्व परिवर्तन का महान कार्य सम्पन्न होता है। यह श्रेष्ठ वृत्ति का व्रत धारण करना ही शिवरात्रि मनाना है।

उक्त बातें हुमायूंपुर उत्तरी सेवा केंद्र की संचालिका बी के सुनीता दीदी ने आज महाशिवरात्रि के अवसर पर कही. आज हुमायूंपुर उत्तरी स्थित प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्विद्यालय के सेवा केंद्र पर सभी ब्रह्मा कुमार व कुमारियो की  मौजूदगी मे इस अवसर पर संचालिका बीके सुनीता दीदी ने शिव ध्वज फहराया.

इस मौके पर बीके सुशीला, कंचन, नीरू, प्रिया, मीनू, लक्ष्मी, किरण, सीमा, सुगंधा, उर्मिल कालिया, रंजुला रावत, गीता, पंखुड़ी, चेतना, कमलेश, माला, अजीत, निर्मला, संगीता, पूजा, प्रवीण, पप्पू, अश्वनी, आशीष, शत्रुघन, अमित, यश, कमलेश, राहुल, अप्रतिम अंचल, संजय आदि मौजूद थे.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *