गोरखपुर

गोरखपुर उपचुनाव: मुख्यमंत्री ने किया अपने मताधिकार का प्रयोग, कहा होगी विकास की जीत

गोरखपुर उपचुनाव: मुख्यमंत्री ने किया अपने मताधिकार का प्रयोग, कहा होगी विकास की जीत

गोरखपुर: सदर लोकसभा सीट के उपचुनाव में आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मतदान केंद्र पर सुबह 7:00 बजे सबसे पहले मतदान किया। उनके मतदान को लेकर जिला प्रशासन पहले से पूरी तरह से अलर्ट था। कल शाम को ही सारी तैयारी कर ली गई थी। और मुख्यमंत्री आज सुबह मतदान केंद्र पर 7:00 बजे से ठीक पहले पहुंच गए थे। उन्होंने अपना मतदान 7:02 कर लिया इस दौरान उनके चेहरे पर विश्वास झलक रहा था। योगी मुस्कुरा रहे थे। वह जीत को लेकर काफी आश्वस्त दिखाई दे रहे थे।

मतदान से बाहर आने के बाद योगी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि विरोधी परास्त होंगे। विकास की जीत होगी और गोरखपुर के साथ फूलपुर भी भारतीय जनता पार्टी भारी मतों से जीतेगी ।उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता ने जातिवाद पूर्व सरकार की जंगलराज को नकारा है। अवसरवादी गठबंधन को जनता सिरे से नकारे गी।

योगी ने गोरखनाथ मंदिर से निकालकर प्राथमिक विद्यालय कन्या पाठशाला गोरखनाथ के बूथ संख्या 250 पर अपना मतदान किया योगी का नाम क्रमांक संख्या 390 पर अंकित योगी आदित्यनाथ अपनी मतदाता पर्ची की प्रति अपने हाथ में लेकर के मतदान को आये और सकुशल मतदान संपन्न कराया।

संवेदनशील सीट होने की वजह से इस उपचुनाव के लिए सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए गए हैं। उपचुनाव के लिए केंद्रीय पुलिसबलों समेत राज्य की पुलिस और पीएसी की तैनाती की गई है।

गोरखपुर संसदीय सीट न सिर्फ बीजेपी के लिए बल्कि सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए भी साख की लड़ाई है। बता दें कि मुख्यमंत्री पद के लिए चुने जाने के बाद योगी आदित्यनाथ ने बतौर सांसद गोरखपुर लोकसभा सीट से अपना इस्तीफा दे दिया था।

गोरखपुर संसदीय क्षेत्र में कुल 5 विधानसभा सीटें हैं। यहां उपचुनाव के लिए 970 मतदान केंद्रों पर वोट डाले जाएंगे। गोरखपुर में कुल 10 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं, लेकिन इस सीट पर कड़ा मुकाबला बीजेपी और समाजवादी पार्टी के बीच ही माना जा रहा है।

बीजेपी ने गोरखपुर से उपेंद्र दत्त शुक्ला को अपना उम्मीदवार बनाया है। उपेंद्र दत्त शुक्ला की पहचान पूर्वांचल में ब्राह्मण चेहरे के रूप में होती है। समाजवादी पार्टी ने उनके खिलाफ निषाद समुदाय से आने वाले पार्टी के नेता प्रवीण निषाद को मैदान में उतारा है। बीएसपी ने इस उपचुनाव में अपने उम्मीदवार खड़े नहीं किए हैं। साथ ही समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार को अपना समर्थन भी दिया है। ऐसे में लड़ाई सीधे-सीधे बीजेपी बनाम सपा-बसपा गठबंधन की हो सकती है। कांग्रेस फिलहाल किसी गठबंधन का हिस्सा बने अकेले इस उपचुनाव में लड़ रही है। कांग्रेस ने गोरखपुर से डॉ सुरहिता करीम को टिकट दिया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *