गोरखपुर

एक करोड़ से अधिक रकम लेकर कंपनी हुई फरार, ग्राहकों ने पुलिस चौकी पर किया प्रदर्शन

गुलरिहा व शाहपुर क्षेत्र की विश्वामित्र प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड  कंपनी हुई फरार

गोरखपुर: शहर के गुलरिहा व शाहपुर थाना क्षेत्र के दर्जनों गांव के खाताधारकों का विश्वामित्र प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड एक करोड़ से ऊपर की रकम लेकर फरार हो गई। शुक्रवार को खाताधारको ने पादरी बाजार पुलिस चौकी पर पहुंचकर प्रदर्शन किया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ खाताधारकों का 2 महीने पहले ही भुगतान की समय अवधि हो गई थी, ऐसे में खाताधारक बार-बार अपने भुगतान के लिए एजेंट से मिलकर भुगतान कराने की मांग कर रहे थे। इस दौरान एजेंट इन खाताधारकों को अनेक बहाने बनाकर दूरी बनाए रखते थे इस पर खाता धारको ने छानबीन कर पासबुक में दिए कंपनी के पते पर पहुंचे तो वहां का नजारा देख सन्न रह गए।

कंपनी के पते पर ताला लटका हुआ था । आस पास पूछने पर पता चला कि यह कंपनी 1 साल पहले ही मकान छोड़कर चली गई है। बावजूद इसके एजेंट लगातार खाता धारको से पैसे की वसूली कर रहे थे। यह कंपनी गोरखपुर के खोवा मंडी में स्थित थी, जबकि उसकी एक शाखा विजय चौक पर स्थित थी।

इसके बाद सभी खाताधारक धारकों को जब इस बात की जानकारी हुई तो वह एजेंट पिंकी सिंह पत्नी कमल सिंह के घर पहुंचे जहां वह नदारद मिली। इसके बाद खाताधारकों ने मोहल्ले में रह रही पिंकी के घर पर नजर रखनी शुरू कर दी।

शुक्रवार की सुबह मोहल्ले में किसी की नजर पिंकी पर पड़ी सभी खाताधारक एकजुट होकर पादरी बाजार पुलिस चौकी पर शिकायत लेकर पहुंचे। इसके बाद पुलिस एजेंट पिंकी सिंह को पकड़कर पुलिस चौकी ले आई साथ ही पिंकी सिंह की तहरीर पर कंपनी के मैनेजर संजय सिंह को उनके आवास धर्मपुर से उठाकर पुलिस चौकी ले आई कुछ देर अंदर रखने के बाद दोंनो को शाहपुर थाने ले गई।

खाता धारको को जब पादरी बाजार चौकी पर न्याय नहीं मिला तो वह भी प्रदर्शन करने पादरी बाजार से जिला प्रशासन की ओर निकल गए। पादरी बाजार के हरसेवकपुर नंबर 2 में रहने वाले शिवधर चौहान ने बताया 3 साल से वह कंपनी में पैसा जमा कर रहे हैं ,जिसकी रसीद उनके पास है। कंपनी में उन्होंने लगभग एक लाख के करीब जमा किया था जिसकी अदायगी का समय हो गया था।

वहीँ पादरी बाजार के रहने वाले शिवबालक सिंह कंपनी में 2015 से रकम जमा कर रहे हैं ।लगभग 72000₹ खाते में जमा कर चुके थे ,जिसकी अदायगी लगभग डेढ़ लाख रुपए होनी थी।

हरसेवकपुर की रहने वाली वृद्धा सोनबरसी देवी ने बैंक में लगभग एक लाख रुपए के करीब जमा किया था जिसकी पेमेंट की अवधि आ चुकी थी इस पैसे से वह अपनी बेटी की शादी करना चाहती थी रकम ना मिलने से दुखी हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *