गोरखपुर

जलजमाव से मुक्ति हेतु 15 फरवरी से गोरखपुर नगर निगम चलाएगा नालों का तल्लीदार सफाई अभियान

 15 फरवरी से गोरखपुर नगर निगम चलाएगा नालों का तल्लीदार सफाई अभियान

गोरखपुर: आने वाले बरसात के सीजन में महानगर को जलभराव की समस्या से निजात दिलाने के लिए गोरखपुर नगर निगम ने कमर कस ली है। निगम प्रशासन अब 15 फरवरी से बड़े नालों की सफाई का अभियान शुरू करेगा। नालों की तल्लीझार सफाई के लिए जोनल जिम्मेदारों को निर्देश दिए जा चुके हैं। इस बार नाले-नालियों से निकले सिल्ट और मलबे को सड़क पर नहीं छोड़ा जाएगा। उन्हें तुरंत ट्रालियों और डम्पर में लादकर उनका निस्तारण कराया जाएगा।

बता दें कि नालों की सफाई में लापरवाही के कारण महानगर में बारिश के समय जलभराव की समस्या गंभीर हो जाती है। नगर निगम नाला सफाई के नाम पर अभियान तो चलाता है, लेकिन तल्लीझार सफाई नहीं होने के कारण नाले-नालियों को मामूली बरसात में उफनाने में जरा भी देर नहीं लगती हैं।

कई पार्षद भी नाला सफाई को लेकर पिछली बार चलाए अभियान को लेकर नाराजगी व्यक्त कर चुके हैं। पार्षद मनु जायसवाल, ऋषि मोहन वर्मा, अजय राय और विश्वजीत त्रिपाठी समेत कई पार्षदों का कहना है कि अगर नाले की तल्लीझार सफाई हो जाए तो वार्डो को जलभराव की समस्या से नहीं जूझना पड़ेगा। जिसे देखते हुए अब पहले से ही गोरखपुर नगर निगम ने पाच बड़े नालों की सफाई का रोस्टर जारी किया है। यह नाले महानगर के अधिकतर वार्डो से गुजरते हैं।

नगर आयुक्त प्रेमप्रकाश सिंह ने सभी जोनल अधिकारियों को निर्देश दिया है कि महानगर की सफाई व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए वार्डो के मार्गो, गलियों और चौराहों के साथ ही नाला-नालियों की तल्लीझार सफाई सुनिश्चित कराई जाए। नाले-नालियों से निकले सिल्ट और मलबे को ट्राली और डम्पर में भरकर उसका निस्तारण कराया जाए।

अब इन तिथियों में ऐसे होगी सफाई:-
(1) 15 से 28 फरवरी तक इलाही बाग रेगुलेटर से नरसिंहपुर जाफरा बाजार पुलिया, बख्शीपुर होते थवई पुल तक नाला (20 श्रमिक, पोकलेन मशीन)
(2) 15 से 24 फरवरी तक डीआर केमिकल पुलिया से बरगदवा चौक होते हुए जप्ती गाव तक का नाला (15 श्रमिक, पोकलेन मशीन)
(3) 25 से 28 फरवरी तक यूएस एकेडमी से विकासनगर कालोनी के अंदर का नाला (15 श्रमिक, पोकलेन मशीन)
(4) 15 से 22 फरवरी-फलमंडी पुलिया से प्रेमचंद पार्क होते हुए नागलिया अस्पताल तक (15 श्रमिक, पोकलेन मशीन)
(5) 23 से 28 फरवरी तक महेवा स्टोर से राजीवनगर होकर महुईसुघरपुर होते हुए कटनिया रेगुलेटर तक (15 श्रमिक, पोकलेन मशीन) सफाई व्यवस्था दुरुस्त की जाएगी

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *