गोरखपुर

मोहद्दीपुर सब स्टेशन सम्भालेगा एम्स की विद्युतीय व्यवस्था

Image-for-representationगोरखपुर: महानगर में अब एम्स की स्थापना होने जा रही है तो एक सवाल स्वाभाविक है कि इसके उपकरणों को चलाने के लिए विद्युत आपूर्ति कैसे होगी। तो इसका भी विकल्प ढूंढ लिया गया है। यह कार्य एम्स के प्रस्तावित स्थल से लगभग डेढ़ किलोमीटर दुरी पर स्थित मोहद्दीपुर सब स्टेशन से सम्भव किया जायेगा। जिसके लिए बिजली विभाग ने एम्स के लिए मोहद्दीपुर सब स्टेशन की क्षमता बढ़ाने का जिम्मा लिया है।
ऐसा केंद्रीय टीम के संशय को लेकर किया जा रहा है। टीम ने चिंता जताई थी कि कम जगह होने से एम्स के लिए वैसे ही मानक से कम जमीन है तो उसी में सब स्टेशन कहां बनेगा। इसे देखते हुए बिजली विभाग ने ये भविष्य में एम्स को सप्लाई में कोई दिक्कत ना हो,इसके लिए उपाय खोज लिया है।
बता दें कि बीते दिनों गन्ना शोध संस्थान की भूमि प्रस्तावित होने पर केंद्र सरकार की ओर से देखने आई केंद्रीय तकनीकी टीम ने पहले सर्किट हाउस में अधिकारियों के साथ मीटिंग की थी। इस दौरान मीटिंग में बिजली विभाग की तरफ से महानगर विद्युत वितरण निगम के डिविजन थर्ड के एक्सईएन भी उपस्थित थे।
उनसे टीम ने 24 घंटे बिजली सप्लाई करने की बात पुछी तो उन्होंने कहा कि प्रस्तावित जमीन से लगभग डेढ़ किलोमीटर दूर 132 केवीए का सब स्टेशन है। यहां से सप्लाई दिया जा सकता हैं। तो पर्यवेक्षण टीम के अधिकारियों ने गन्ना शोध संस्थान में जगह कम होने की बात कही, जिस पर एक्सईएन ने मोहद्दीपुर में नया सब स्टेशन बनाकर सप्लाई देने का आइडिया भी सुझाया।
फर्टिलाइजर के लिए भी होगा अन्य विकल्प
अभी तक फर्टिलाइजर में लगे 132 केवीए सब स्टेशन से एसएसबी, फर्टिलाइजर आवासीय एरिया के साथ ही राप्तीनगर, पादरी बाजार, विकास नगर, सूरजकुंड, दुर्गाबाड़ी और इंडस्ट्रियल एरिया के अलावा ग्रामीण अंचल के भटहट और पिपराइच सब स्टेशन एरिया को बिजली सप्लाई दी जाती है। ऐसे में जब फर्टिलाइजर चालू होगा तो इसी सब स्टेशन से फैक्ट्री को भी सप्लाई दी जानी है।
इससे पब्लिक सेक्टर वाले सब स्टेशन की बिलजी काटनी जरूरी हो जाएगी। गोरखपुर जोन के चीफ इंजीनियर डीके सिंह का कहना है कि इस दिक्कत को रोकने के लिए भटहट के पास एक नया 132 केवीए सब स्टेशन बनाने का कार्य शुरू कर दिया गया है। जैसे ही फर्टिलाइजर सब स्टेशन की बिजली सप्लाई का कार्य पूरा होगा। शहर और ग्रामीण अंचल के एरिया को इससे जोड़ दिया जाएगा।
इस सम्बन्ध में गोरखपुर जोन के चीफ इंजीनियर डी के सिंह का कहना है कि अभी तो प्रपोजल तैयार नहीं है, लेकिन एम्स के लिए बिजली देना हमारी प्राथमिकता में रहेगा। मोहद्दीपुर 132 केवीए सब स्टेशन की क्षमता बढ़ाकर यहीं से एम्स के लिए बिजली सप्लाई दी जाएगी।

fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *