गोरखपुर

मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह योजना में एक दूजे के हुए 101 जोड़े, खरमास में शादी पर सपा ने उठाये सवाल

मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह योजना में एक दूजे के हुए 101 जोड़े, खरमास में शादी पर सपा ने उठाये सवाल

गोरखपुर: मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह योजना के अन्तर्गत चम्पा देवी पार्क में 101 जोड़ों की सामुहिक शादी हुई। इसमें 93 ने हिन्दु रीति रिवाज से विवाह किया। पंडित माधव शरण त्रिपाठी तथा राजेश त्रिपाठी ने मंत्रोच्चारण के बीच विवाह कराया। 8 जोड़ों को मुफ्ती वलिउल्लाह एंव अख्तर हुसैन ने निकाह पढ़ाया। इस अवसर पर शहनाई वादक मु0 उस्मान और उनके साथियों ने शहनाई बजाई।

इस अवसर पर प्रदेश के सिंचाई, सिंचाई यांत्रिक मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री धर्मपाल सिंह ने सभी जोड़ों को आर्शिवाद दिया। इस अवसर पर उन्होंने प्रत्येक जोड़ों को 10 हजार रूपये तक का सामान जिसमें बर्तन, कपड़े, मोबाइल सेट, पायल, बिछिया आदि का उपहार दिया।

प्रभारी मंत्री धर्मपाल सिंह इस अवसर पर उन्होने कहा कि सामुहिक विवाह योजना प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की एक महत्वाकांक्षी योजना है जिसमें गरीब परिवारों को सुविधा पूर्वक विवाह कराया जाता है और उन्हें उपहार भी दिया जाता है।उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार की सभी योजनाएं गरीब व्यक्तियों को लाभान्वित करने की है।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना विवादों में, विरोधी दल सपा ने निकाली भड़ास

सीएम सिटी में गुरुवार को सम्पन्न मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना विवादों में आ गई है। खरमास में आयोजित हुए इस शादी समारोह पर बीजेपी के विरोधी दल सपा ने कड़ी आलोचना की है।

बता दें कि गुरुवार को प्रदेश के सिंचाई और गोरखपुर के प्रभारी मंत्री धर्मपाल सिंह बतौर मुख्य आतिथ्य में समाज कल्याण विभाग द्वारा आयोजित इस विवाह समारोह में कुल 92 जोड़ों का विवाह कराया गया, इसमें 8 जोड़ें मुस्लिम समाज के भी थे। उन्होंने कहा कि खरमास भी शुभ माह होता है। विवाह जैसा पवित्र कार्य कभी भी किया जा सकता है। यही वजह है कि गरीब बेटियों के इस समारोह में उनके साथ गोरखपुर क्षेत्र के सभी विधायकगण भी मौजूद हैं।

जबकि इसके इतर समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष प्रहलाद यादव ने इस सामूहिक विवाह योजना में बड़ा घोटाला होने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि मार्च का महीना शासन से जिलों को विभिन्न मदों में प्राप्त बजट को खर्च करने का होता है। समाज कल्याण विभाग अपने विभाग का बजट शासन को वापस न हो उसके डर से आनन-फानन में विवाह योजना के माध्यम से खर्च करने का प्लान बना दिया।

सपा जिलाध्यक्ष प्रह्लाद यादव ने तो आनन फानन में प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर बीजेपी सरकार और सीएम योगी पर हमला बोल दिया। सपा जिलाध्यक्ष प्रह्लाद यादव ने अनुमान लगाते हुए कहा कि करीब 10 लाख रुपए का घोटाला शादी समारोह में हुआ है। उन्होंने कहा जिस प्रदेश का मुखिया हिंदू धर्म को मानने वाला हो। उसके देखरेख में कई धार्मिक कार्य होते हों। गोरखपुर में होली की तिथि बदल दी जाती हो। दीपावली की तिथि बदल दी जाती हो। हिंदुओं की दशा और दिशा तय की जाती हो। ऐसे मुख्यमंत्री और उसके नाम पर चलाई जाने वाली योजना का तिथि भी बदल दिया जाना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि बीजेपी की सरकार में हिंदू धर्म के गरीब जोड़ों के साथ यह बहुत ही बड़ा अन्याय है। ईश्वर करें ऐसे जोड़ो की शादी अपने सफलता को प्राप्त करें, लेकिन खरमास में इनका विवाह कहीं से भी उचित नहीं है।

जबकि इस विवाह समारोह में शामिल कैम्पियरगंज के विधायक फतेहबहादुर सिंह ने भी सवाल खड़ा करते हुए कहा कि उन्हें आज ही इस समारोह की जानकारी हुई है। शासन स्तर से इसकी जानकारी जरूर की जाएगी कि इस माह में शादी क्यों आयोजित की गई।

सामूहिक विवाह के अवसर पर महापौर सीताराम जायसवाल, विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल, महेन्द्रपाल सिंह, श्रीमती संगीता यादव, विपिन सिंह, संत प्रसाद, फतेह बहाुदर सिंह, जिलाधिकारी के. विजयेन्द्र पाण्डियन, सीडीओ अनुज सिंह,जनार्दन तिवारी एंव अन्य विभागीय अधिकारी गण उपस्थित रहे। संचालन समाज कल्याण अधिकारी सप्तऋषि कुमार ने किया। इसमें एडीएम प्रशासन प्रभुनाथ,मीनू सिंह, रेखा गाडिया,संजय सिंह, समरजीत सिंह,खण्ड विकास अधिकारी गण उपस्थित रहकर सक्रिय सहयोग प्रदान किया।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *