गोरखपुर

घूस लेते रंगे हाथ धराया नगर निगम का क्लर्क

The-arrested-clerkगोरखपुर: एंटी करप्शन टीम ने सोमवार को नगर निगम के कर निर्धारण विभाग के क्लर्क पीयूष रस्तोगी (52 वर्ष) को 1500 रुपये घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया. टीम को पिछले कई महीनों से उसके द्वारा घूस लेने की शिकायत मिल रही थी।
नगर निगम के कर निर्धारण विभाग में तैनात क्लर्क पीयूष रस्तोगी पर पिछले कई महीनों से घूस लेने की शिकायत मिल रही थी. नगर निगम के ठेकेदार दुर्गेश्वर सिंह पिछले दिनों क्लर्क पीयूष रस्तोगी ने नाम चढ़ाने के नाम पर 1500 रुपये घूस मांगे थे. इसकी शिकायत उन्होंने एंटी करप्शन विभाग में की थी।
प्लान के तहत आज सोमवार को दिन में 12: 30 बजे एंटी करप्शन की टीम प्लान के तहत नगर निगम के मुख्य द्वार पर पहुंची. मुख्य द्वार पर जैसे ही क्लर्क पीयूष रस्तोगी ने ठेकेदार दुर्गेश्वर सिंह से घूस लिए, एंटी करप्शन विभाग की टीम ने उसे रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।
उसके बाद टीम उसे लेकर कोतवाली थाने पहुंची और उससे पूछताछ करने के बाद उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे न्यायालय में पेश करने की तैयारी करने लगी. पीयूष रस्तोगी को इस बात का जरा भी अहसास नहीं था, कि वह एंटी करप्शन टीम के जाल में फंस चुका है. कोतवाली में रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद पहुंचे पीयूष रस्तोगी के चेहरे का रंग उड़ा हुआ था।
टीम ने घूस में लिए गए 500 रुपये के 3 नोटों को जब्त कर लिया और उसके उंगलियों पर लगे रंग को भी सबूत के तौर पर संरक्षित कर लिया. एंटी करप्शन टीम के प्रभारी निरीक्षक सभाजीत त्रिपाठी ने बताया कि पिछले कई महीने से पीयूष रस्तोगी के खिलाफ शिकायत आ रही थी. ठेकेदार दुर्गेश्वर सिंह की शिकायत पर पूर्व निर्धारित प्लान के तहत उसे छापा मारकर गिरफ्तार किया गया है।
जरूरी कार्रवाई पूरी करने के बाद एंटी करप्शन एक्ट की धारा 7/13(1) D सपठित धारा 13(2) पीसी एक्ट 1988 में न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेजने की तैयारी होगी.
हमारा फेसबुक पेज LIKE करना न भूले:
fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *