गोरखपुर

आधुनिकता की भेंट चढ़ गई बाँसगांव की मासूम वृद्धा, तड़प-तड़प कर हुई मौत

सत्य चरण लक्क़ी
गोरखपुर: आज आधुनिकता के दौर में लगभग हर परिवार एकांकी होता चला जा रहा है। आज पूर्वांचल से हजारों युवा दिल्ली, बंबई, अहमदाबाद में कमाने की ख़ातिर लाचार माँ बाप को अकेले तक छोड़ दे रहे हैं। इसका परिणाम यह निकल कर आ रहा है कि उनकी जर्जर असहाय स्थिति में उनकी कोई देखभाल करने वाला कोई नहीं बच रहा है ।

ऐसा ही एक प्रकरण जनपद के बाँसगांव थाना क्षेत्र के ग्राम बघराई मे सामने आया है। जिसमें लगभग 80 वर्षीय अकेली बुजुर्ग महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। सुबह पांच बजे शौच जाने के दौरान ग्रामीणों ने वृद्ध महिला को उसकी झोपड़ी के प्रवेश द्वार पर खून से लथपथ देखा तथा उन्होंने स्थानीय पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने लाश को कब्जे में लेकर आवश्यक कार्यवाई शुरू कर दी।

जानकारी के अनुसार मृतका बुजुर्ग महिला घर पर अकेले रहती थी। महिला के दो पुत्र और तीन पुत्रिया हैं। दोनो बेटे अपने परिवार सहित बाहर ही रहकर जीविकोपार्जन करते हैं। वहीं तीनों पुत्रियों का विवाह हो चुका है। इतना बड़ा परिवार होने के बावजूद यह वृद्धा जैतुना पत्नी अजीमुउद्दीन पड़ोस के संभ्रांत चन्द्रहास राय के यहाँ दो वक्त का भोजन लेती थी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *