गोरखपुर

जनता ने की मेडिकल कॉलेज में परसिया और नाहरपुर में नाले के निर्माण की मांग

गोरखपुर: सीएम सिटी के लोगों ने सरकार से शहर के परसिया और नाहरपुर में मेडिकल कॉलेज पर जल्द से जल्द एक नाले के निर्माण की मांग की है। उनका कहना है कि नाला नहीं होने की वजह से कई प्रकार की बीमारियां फैल रही है। जिससे इस क्षेत्र में लगों का रहना दूभर हो गया है।

उनका कहना है कि इस क्षेत्र में मेट्रोपॉलिटन, हॉल मार्क, ज्योति पब्लिक स्कूल, अपेक्स, मॉडर्न एरा, सरस्वती इंटरमीडिएट कॉलेज जैसे स्कूल व कॉलेज हैं। नाला नहीं होने की वजह से जैसे डेंगू, मलेरिया, टाइफाइड जैसी गंभीर बीमारियां फैल रही है अगर इस एरिया में नाले का निर्माण तुरंत नहीं हुआ तो इस एरिया के सभी स्कूल के बच्चों को यह बीमारियां हो सकती हैं।

स्थानीय लोगों का कहना है कि एक तरफ सरकार स्वच्छता अभियान की बात करती है, वहीं दूसरी तरफ बड़ी-बड़ी चीजों की अनदेखी करते हैं। जहां एक तरफ पहले ही गोरखपुर को इतनी बड़ी-बड़ी बीमारियों ने घेर रखा है। ऐसे में समय है जागरूक होने का और किसी हादसे के होने से पहले उस समस्या का निदान खोजने का ताकि इस क्षेत्र के मासूम बच्चों के चेहरे पर मुस्कान बनी रहे और सभी अभिभावक अपने बच्चों को निडर होकर स्कूल, कॉलेज भेज सकें और हमारा गोरखपुर स्वच्छ भारत का हिस्सा बना रहे।

उन्होंने कहा कि जहां एक तरफ सरकार जगह-जगह शौचालय बना रही है वहीं दूसरी तरफ उस शौचालय के गंदे पानी का निकास नहीं है। ऐसे में कोई व्यक्ति शौच करने के लिए जाए कहां। चीजों को एक दूसरे पर डालने से बेहतर है की हम खुद काम को अंजाम दें।

स्थानीय लोगों ने कहा कि जहां एक तरफ हम डिजिटल इंडिया की बात करते हैं वहीं दूसरी तरफ इन छोटी-छोटी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उन्होंने इस बात पर आश्चर्य जाहिर किया कि आखिर क्यों लोगों द्वारा आवाज उठाने पर ही हमारे यहां कोई भी कार्य होता है। जबकि ऐसे कामों को बिना कहे ही हो जाना चाहिए। उनका कहना है कि ऐसे लोक कल्याणकारी कार्यों को समय से पहले अंजाम ना देकर या तो हम अभी भी इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि मासूम बच्चे बीमार हो तब हम उस पर कोई एक्शन ले। इस बात पर अफसोस जाहिर करते हुए कि मुख्यमंत्री के शहर का यह हाल है, स्थानीय लोगों ने जल्द से जल्द इस समस्या के निराकरण की मांग की।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *