गोरखपुर

अलकनंदा छात्रावास में छात्राओं ने किया पौधरोपण

–देश को हरा भरा रखने के लिए एक नागरिक को एक पौधा लगाना चाहिए
–वृक्ष पृथ्वी की अमूल्य धरोहर है उसकी रक्षा करना हमारा कर्तव्य

अरविन्द श्रीवास्तव
गोरखपुर: दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय गोरखपुर के अलकनंदा छात्रावास में छात्रावास की अभिरक्षिका प्रोफेसर शोभा गौड़ के नेतृत्व में वृक्षारोपण किया गया। इस मौके पर अशोक, आम, पीपल, नीम सहित अन्य वृक्ष लगाए गए।

सोमवार को इस अवसर पर अलकनंदा छात्रावास की अभिरक्षिका प्रोफेसर शोभा गौड़ ने कहा कि देश को हरा भरा बनाए रखने के लिए प्रत्येक नागरिक को चाहिए कि वह अपने जीवन में एक वृक्ष अवश्य लगाए। उन्होंने कहा कि वृक्ष पृथ्वी की अमूल्य धरोहर हैं और उनकी रक्षा करना प्रत्येक नागरिक का कर्त्तव्य है। अपने और आने वाली पीढ़ी के जीवन को बचाने के लिए हमें वृक्षारोपण अवश्य करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि वृक्षारोपण और उनके रक्षण के सांस्कृतिक दायित्व का निर्वाह कर सृष्टि को अकाल भावी विनाश से बचाया जा सकता है। व्यक्ति और समाज दोनो स्तरों पर इस ओर प्राथमिक स्तर पर ध्यान दिया जाना परम आवश्यक है।

वहीं छात्रावास की अधीक्षिका मीतू सिंह ने कहा कि हमारे वायुमण्डल में उद्योग तथा मानवीय कचरे आदि के कारण अनेक जहरीली गैस तथा रसायन मिल जाते हैं। इन जहरीली गैस तथा रसायनों को वायुमण्डल से साफ करने में पेड़ पौधे प्रमुख भूमिका निभाते हैं। कहा कि हम सभी को न सिर्फ पेड़ों की रक्षा करनी चाहिए बल्कि वृक्षारोपण कार्यक्रमों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए।

इस मौके पर अधीक्षिका ज्योतिबाला ने कहा कि वृक्षारोपण अभियान की दिशा में एक काम जो हम सब आसानी से कर सकते हैं वो है अपने जन्मदिन पर कम से कम एक पेड़ लगाना और अगला जन्मदिन आने तक उसकी देखभाल करना। उन्होंने कहा कि यदि प्रति व्यक्ति 5-5 पौधे लगाये और उसे पेड़ बनते तक उसकी देखभाल करे तो ग्लोबल वार्मिंग का दंश झेल रहे भारतवर्ष और पूरे विश्व का वातावरण शुद्ध किया जा सकता है।

इस मौके पर छात्रावास की पूर्व अभिरक्षिका प्रोफेसर सुमित्रा सिंह ने कहा कि वृक्षारोपण के लिये करोड़ो रुपये लगाये जाते हैं। वृक्षों की सुरक्षा के लिये करोड़ो रुपये के शेड लगाये जाते हैं लेकिन यह सब बेकार है जबतक वृक्षों की उचित देखभाल न की जाय। इस मौके पर छात्रावासियों के अलावा अन्य कर्मचारी भी मौजूद रहे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *