गोरखपुर

कांग्रेस भी कूदी एम्स का श्रेय लेने की होड़ में; आरपीएन बोले यूपीए ने किया था एम्स निर्माण का मार्ग प्रशस्त

Congress-leader-RPN-Singh-iगोरखपुर: पूर्व गृह राज्य मंत्री और कांग्रेस के प्रवक्ता आरपीएन सिंह की बीजेपी के बड़े पदाधिकारियों, मंत्रियों ने दलित समाज के प्रति जिस तरह की शब्दावली इस्तेमाल की है उससे स्पष्ट होता है कि इनके दृष्टिकोण में कितनी नफरत हैं। बीजेपी का दलित विरोधी एजेंडा इन दो वर्षों में प्रदेश व देश में देखने को मिल गया हैं।
सोमवार को शहर के एक होटल में मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा की बीजेपी का एजेंडा दलित विरोधी हैं। जिस तरह के हालात गुजरात, उप्र, राजस्थान, मप्र में है या फिर हैदराबाद में रोहित वेमुला के साथ हुआ वह बीजेपी की दलित विरोधी मानसिकता को दर्शाता हैं ।
उन्होंने उप्र चुनाव पर कहा कि हमारी नीति स्पष्ट है । 27 सालों तक प्रदेश में तीनों दलों को आपने देख लिया। अब काग्रेस में भरोसा जता कर हमारा साथ दें, ताकि 27 साल पहले जो विकास की गाथा लिखी गयी थी उसे दोहराया जा सकें।
उन्होंने कहा की पिछली 22 तारीख को पीएम नरेन्द्र मोदी गोरखपुर आये और जिस एम्स का मार्ग प्रशस्त करने की बात किये उसे हमारी सरकार ने प्रशस्त किया। एम्स दो साल पहले स्वीकृत कर दिया था। दो साल से लड़ाई लड़ाते रहे कि बनारस में होगा या गोरखपुर में बनेगा एम्स। और अब जब चुनाव नजदीक आया तो गोरखपुर में एम्स बना रहे हैं।
उन्होंने कहा,”मुझे खुशी है यहां एम्स बन रहा है। बनारस, बुंदेलखंड व पश्चिमी उप्र में भी एम्स बनना चाहिए। जिस विघुतीकरण का सेहरा लिया जा रहा है वो हमनें शुरु किया। राजीव गांधी विघुतीकरण परियोजना के तहत पिछली यूपीए सरकार ने न सिर्फ स्वीकृति ही नहीं दी बल्कि धन आवंटित कर दिया। कुशीनगर में देखिए 90 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है।”
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा की गोरखपुर से हरित क्रांति लाने की बात कहीं। जब उड़ीसा, आसाम गये वहां से भी हरित क्रांति लाने की बात कही। कम से कम भाषण तो बदल लेते जहां जा रहे है वहीं से हरित क्रांति शुरु कर दे रहे हैं ।यह पूरा देश क्या भाषणों के माध्यम से चलेगा।
उन्होंने कहा पीएम सिर्फ आधा सच बोलते हैं । पीएम की जिस कुरसी पर नरेन्द्र मोदी बैठते हैं उन्हें देश व जनता से पूरा सच रखना चाहिए। हाल ही में हमने देखा कि बीजेपी के दो साल होने पर पूरे देश में टीवी व अखबार के माध्यम से, पीएम ने अपने भाषणों में स्वयं कहा कि एलपीजी सब्सिडी की वजह से 22 हजार करोड़ रुपया हमारी योजनाओं की वजह से बचे हैं, इसी बीच कैग कि रिपोर्ट आती है , तो पहली बार ऐसा हुआ होगा कि पीएम जिस चीज की क्रेडिट लेते हैं और कैग बताता है कि 2 हजार करोड़ का फायदा हुआ हैं।
उन्होंने कहा,”मैं यह कभी नहीं कहना चाहता कि हमारे पीएम 10 प्रतिशत सच बोलते हैं, लेकिन आंकड़े देखे तो 22 हजार करोड़ का 10 प्रतिशत 2 हजार करोड़ ही होता हैं। कम से कम पीएम को तो सच बोलना चाहिए। खाद कारखाना हमनें स्थापित किया और उसे पुन: चलाने का मार्ग यूपीए ने ही प्रशस्त किया , शिलान्यास तो नए काम के लिए होता हैं। खाद कारखाना को फिर से चालू करने के लिए शिलान्यास रखा जाता हैं यह क्यूं हुआ तो सुनिए उप्र का चुनाव जो करीब है।”
उन्होंने कहा की खाद कारखाने की बुनियाद में यूपीए सरकार की कोशिशें हैं । गैस पाइप लाइन हमारी सरकार ने शुरु किया पीएम ने वह तो नहीं बताया। गैस पाइप लाइन से गोरखपुर खाद कारखाना ही नहीं उस रास्ते में पड़ने वाले तमाम खाद कारखाने शुरु होंगे।
आरपीएन सिंह ने कहा 2014 में पीएम नरेन्द्र मोदी ने तमाम वायदें किए चाहे वो बेरोजगारी हो, महंगाई हो, कालाधन हो उसके बारे में नहीं बताते हैं। जिस 56 इंच की छाती की बात कहीं थी पठानकोट हमलों के दौरान कहा गयी। पाकिस्तान से यहां जांच करने आईएसआई के मददगार आते है क्या हमारी एनआईए की टीम वहां जाकर जांच कर सकती हैं।
उन्होंने कहा की बीजेपी व पीडीपी की सरकार है जम्मू कश्मीर में है हालात कितने खराब हैं? हमारी सरकार ने जो शान्ति लायी थी वह बीजेपी के ढुलमूल रवैयों की वजह से अशंति में तब्दील हो गयी। हिन्दुत्व, राममंदिर, अनुच्छेद 370, समान नागिरक संहिता ये चुनाव के समय बाहर निकलते है और चुनाव बाद ठंडे बस्ते में चले जाते हैं।
गालियों पर हो रही राजनीति के सवाल पर कहा कि कोई भी राजनीतिक दल या नेता का शब्दावली पर नियंत्रण होना चाहिए बसपा सुप्रीमों मायावती पर बीजेपी से निष्कासित दयाशंकर की टिप्पणी निदंनीय है । उस पर उचित कारवायी होनी चाहिए। उसके जवाब में भी अगर कोई अभद्र टिप्पणी करता है वह भी निदंनीय है। जिस तरह की अभद्र भाषा का प्रयोग राजनीति में हो रहा है वह गलत हैं।
LIKE US:

fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *