गोरखपुर

शुरू हो गयी शहर में रेडियो टैक्सी सेवा

Gorakhpur-DM-flags-off-radiगोरखपुर: प्रदेश शासन के मुख्य सचिव की नाराजगी और निर्देश पर काफी दिनों बाद ही सही जिला प्रशासन ने वृहस्पतिवार की देर शाम आखिरकार रेडियो टैक्सी सेवा को हरी झण्डी दे ही दी। जिलाधिकारी ओ एन सिंह ने शाम को अपने आवास पर हरी झंडी दिखाकर इन टैक्सियों को रवाना किया। जो शुक्रवार से अपने वजूद में आ जाएंगी।
पहले चरण में केवल आठ टैक्सियों को शामिल किया गया है। रेडियो टैक्सी सेवा के संचालन के लिए मूलभूत ढांचा विकसित होने के बाद और टैक्सियां बेड़े में शामिल की जाएगी।
गोरखपुर में रेडियो टैक्सी चलाने के लिए शासन ने काफी पहले निर्देश दिया था लेकिन विभिन्न वजहों से यहां यह सेवा शुरू नहीं हो पा रही थी। इसे शुरू करने में एक तो सबसे बड़ी दिक्कत यह थी कि इस तरह की टैक्सियों को संचालित करने वाली कोई फर्म गोरखपुर में आने को तैयार नहीं हो रही थी, दूसरे इसके लिए मूलभूत ढांचा ही नहीं था।
बुधवार को मुख्य सचिव ने इस पर काफी नाराजगी जताई और फैक्स भेजकर वृहस्पतिवार से हर हाल में यह सेवा शुरू करने का निर्देश दिया। मुख्य सचिव के निर्देश के बाद जिला प्रशासन बुधवार की शाम से ही इस सेवा के लिए टैक्सियों का इंतजाम करने में जुट गया। जिलाधिकारी ने इसकी जिम्मेदारी आरटीओ को दी।
आरटीओ एम अंसारी और आरटीओ प्रवर्तन एके गुप्त, गुरुवार को सुबह से विभिन्न ट्रेवेल एजेंसियों से बातचीत करने में जुटे थे। अंत में आल इंडिया टूर एंड ट्रेवल्स नाम की एजेंसी इस सेवा के लिए आठ टैक्सी उपलब्ध कराने की हामी भरी। वैसे तो रेडियो टैक्सी की सेवा लेने के लिए टोल फ्री नंबर पर फोन करना होता है लेकिन गोरखपुर में इस सेवा के लिए अभी टोल फ्री नंबर उपलब्ध नहीं है।
टैक्सी की सेवा लेने के लिए फिलहाल ट्रेवलिंग एजेंसी के मालिक वेद प्रकाश सिंह के मोबाइल नंबर(9839187530 व 9839075915) पर फोन करना होगा। इन टैक्सियों के संचालन के लिए मूलभूत ढांचा विकसित होने के बाद टोल फ्री नंबर जारी किया जाएगा।
कई शहरों में रेडियो टैक्सी सेवा दे रही प्रमुख फर्मे गोरखपुर में आने को तैयार नहीं हैं। शासन के निर्देश पर गोरखपुर में यह सेवा शुरू करने के लिए अधिकारियों ने इन फर्मो से संपर्क किया था। यहां सेवा शुरू करने से पहले इन फर्मो ने अपने स्तर से यहां सर्वे कराने के बाद गोरखपुर से आने से इन्कार कर दिया।
उनका कहना था कि गोरखपुर में डग्गा मार और बिना परमिट के चलने वाली टैक्सियों की तादात काफी अधिक है। ऐसे में यहां सेवा देने का सौदा उनके लिए घाटे का साबित होगा।डग्गामार वाहनों और अवैध ढंग से चलने वाली टैक्सियों के चलने के बारे में जानकारी होने पर मुख्य सचिव ने यातायात पुलिस को इनके संचलन पर रोक लगाने का निर्देश दिया है।
इसके रेडियो टैक्सी सेवा शुरू करने के लिए भेजे गए पत्र में उन्होंने अवैध वाहनों के संचलन पर रोक लगाने की जिम्मेदारी पुलिस अधीक्षक यातायात को दी है। ताकि रेडियो टैक्सी सेवा के कारोबार से संबंधित फर्मे गोरखपुर में अपनी सेवा शुरू कर सकें।
रेडियो टैक्सी की सेवा लेने पर पहले ढाई किलोमीटर तक के लिए पचास रुपये का भुगतान करना होगा। इसके बाद प्रति किलोमीटर के लिए बीस रुपये की दर से किराया निर्धारित की गई है। रात में ग्यारह बजे से दूसरे दिन सुबह पांच बजे के बीच सेवा लेने पर यात्री को 25 प्रतिशत अतिरिक्त भुगतान करना पड़ेगा।
हमारा फेसबुक पेज LIKE करना न भूले:
fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *