गोरखपुर

रेप पीड़िता गयी थी न्याय की गुहार लगाने, पहुँच गयी अस्पताल

rape-victim-with-her-familyगोरखपुर: सोमवार को जिला मुख्यालय पर एक अजब दृश्य देखने को मिला। बीते एक माह से दुष्कर्म शिकार युवती न्याय की गुहार लगाते लगाते जब मुकामी पुलिस से थक गई तो जिले के आला अधिकारियों के यहां आज इंसाफ मांगने चली गई। जहां कतार में खड़े खड़े उसकी हालत खराब हो गई और इंसाफ के दरबार की बजाय उसे जिला अस्पताल में भर्ती होना पड़ा।
बता दें की जनपद के बेलीपार थाना क्षेत्र का रहने वाला बिस्तौली खुर्द निवासी 23 वर्षीय गोलू उर्फ सचिन कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु सिटी में बीते कई वर्षों से पेंट पालीस करके जीविकोपार्जन करता था। जहां उसकी नजरें मोहल्ले की ही रहने वाली युवती सीमा से 2-4 हो गई। कुछ दिनों तक दोनों का प्यार पर्दे के पीछे रहा ,जब पास पड़ोसियों की नजर उन पर पड़ी तो मामला सरेआम हो गया। जिसे देखते हुए दोनों परिवारों के गार्जियन ने बच्चों की खुशी देते हुए शादी कर दी ।
शादी के बाद लगभग 7 माह पूर्व गोलू अपनी पत्नी सीमा को लेकर गोरखपुर स्थित अपने पैतृक गांव बिस्तौली खुर्द आया था। गांव में शौचालय की सुलभ स्थिति ना होने के कारण सीमा को शौच निवृत्ति के लिए सुबह शाम घर से बाहर निकलना पड़ता था। जिसे गांव के ही एक कथित नेता देवेंद्र निषाद और उसके भतीजे पिंटू द्वारा मौके बे मौके छेड़ा जाता था ।इसी दौरान पिछले मांह 19 जून को जब सीमा सोच के लिए बाहर गई हुई थी तो उपरोक्त दोनों आरोपियों ने उसे पकड़ कर उसके शारीरिक अंगों से छेड़छाड़ किया । जिसकी शिकायत सीमा ने घर लौट कर अपने पति गोलू उर्फ सचिन से किया।
पत्नी के साथ हुए दुर्व्यवहार की शिकायत लेकर जब सचिन ने आरोपियों के घर जाकर उलाहना दिया तो वह इस बात से नाराज हो गए और 21 जून को शाम के वक्त उसके घर में घुसकर मारपीट भी किए। बात यही तक रहती तो कोई गुरेज नही था । अगले दिन 22 जून को शाम के वक्त जब सीमा घर में अकेली बर्तन मांज रही थी तो आरोपियों ने घर में घुसकर उसे उठा लिया और गली में ले जाकर उसके साथ यौन उत्पीड़न किया। जिसकी शिकायत सीमा ने अपने पति के साथ जाकर मुकामी बेलीपार थाने में किया तो पुलिस ने आरोपियों को कुछ देर के लिए हिरासत में ले कर बैठाए रखा और छोड़ दिया।
इस घटना से नाराज कतिपय नेता अपने भतीजे व उसके एक अन्य साथी के साथ 23 जून की रात जब सभी लोग छत पर सो रहे थे और नीचे के कमरे में सीमा और उसका पति अलग-अलग दिशा में सोए थे तो तीनो ने मिलकर सीमा को मुंह दबाकर बालकनी में उठा ले आए और उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया । घटना की शिकायत बेलीपार थाना करने पहुंची सीमा को बार-बार दौड़ाया जाता रहा किंतु आज तक उसकी शिकायत को लिपिबद्ध नहीं किया गया है।
जिससे त्रस्त होकर आज सीमा अपने पति के साथ जिले के पुलिस मुखिया एसएसपी के दरबार में पहुंच गई किंतु लंबी लाइन में लगे होने के कारण उसे चक्कर आ गया और वह बेहोश होने लगी। उसकी खराब हालत देखकर बगल में खड़ी कांग्रेस नेत्री सिंगेश देवी ने उसे इलाज हेतु जिला अस्पताल में भर्ती कराया।
अब ऐसे में देखा जाए तो कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी निभाने वाले मुकामीे थानेदार के ऊपर इस तरह की गंभीर घटनाओं को नजरअंदाज करने के लिए पुलिस के मुखिया क्या कार्रवाई करते है।
LIKE US:

fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *